जिले के कण्डेल से शुरू होगी ’गांधी विचार यात्रा’


मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 04 अक्टूबर को ’गांधी विचार यात्रा’ में करेंगे शिरकत


धमतरी, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के अवसर पर उनके विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए 04 से 10 अक्टूबर तक ’गांधी विचार यात्रा’ नाम से पदयात्रा निकाली जा रही है। कण्डेल से रायपुर तक की इस पदयात्रा की शुरूआत प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 04 अक्टूबर को जिले के ग्राम कण्डेल से की जा रही है। श्री बघेल सुबह साढ़े 10 बजे हेलीकाॅफ्टर द्वारा रायपुर से रवाना होकर 11 बजे धमतरी के ग्राम कण्डेल स्थित मिनी स्टेडियम पहुंचेंगे। वे सुबह 11 से शाम पांच बजे तक कण्डेल से होते हुए गागरा, छाती में ’गांधी विचार यात्रा’ में शिरकत करेंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल शाम पांच बजे शासकीय हाईस्कूल मैदान छाती से हेलीकाॅफ्टर से रायपुर के लिए रवाना होंगे।
मुख्यमंत्री श्री बघेल नहर सत्याग्रह स्मृति वन में पौधे रोपंेगे
कण्डेल में सभा लेने के उपरांत मुख्यमंत्री श्री बघेल पदयात्रा करते हुए ग्राम गागरा पहुंचेंगे, जहां पर वर्ष 1920 में ग्राम कण्डेल के किसानों द्वारा किए गए नहर सत्याग्रह के स्मृति-वन में पौधरोपण करेंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम गागरा में गौठान के समीप एवं तालाब के किनारे वन विभाग की पर्यावरण वानिकी योजना के तहत दो हेक्टेयर क्षेत्र में 11 लाख 37 हजार रूपए की लागत से 1500 पौधों का रोपण किया जाएगा, जिसमें विभिन्न प्रकार के फलदार, छायादार एवं आयुर्वेदिक महत्व के आम, जामुन, अमरूद, अर्जुन, हर्रा, बेहड़ा, आंवला तथा शीरस के पौधे लगाए जाएंगे। इसके उपरांत ग्राम गागरा के शहीद श्री संतोष नेताम की मूर्ति पर मुख्यमंत्री के द्वारा माल्यार्पण किया जाएगा। ग्राम गागरा निवासी आरक्षक श्री नेताम नगरी के मेचका थानांतर्गत नक्सल मुठभेड़ में 15 मई 2009 को शहीद हो गए थे। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1920 में ब्रिटिश शासन द्वारा कण्डेल के किसानों पर नहर का पानी चोरी करने के झूठे आरोप में भारी-भरकम करारोपण किया गया था, जिसके विरोध में कण्डेल के मालगुजार बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव के नेतृत्व में किसानों ने अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन किया, जिसे कण्डेल नहर सत्याग्रह के नाम से जाना जाता है। सत्याग्रह में शामिल होने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी 21 दिसम्बर 1920 को धमतरी आए थे। उनके आने की खबर मिलते ही ब्रिटिश शासन ने किसानों पर आरोपित कर निःशर्त माफ कर दिया था। यह कण्डेल के सत्याग्रही किसानों की ऐतिहासिक जीत थी। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर उक्त सत्याग्रह को यादगार बनाने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा पदयात्रा सहित विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन ग्राम कण्डेल, गागरा व छाती में किया जाएगा।

गांधी के सम्पूर्ण जीवन-वृत्त पर आधारित छायाचित्र प्रदर्शनी ग्राम छाती में लगाई गई
जनसम्पर्क विभाग द्वारा ग्राम छाती के नवनिर्मित मल्टी यूटिलिटी सेंटर में राष्ट्रपिता के सम्पूर्ण जीवन-वृत्त पर आधारित छायाचित्र प्रदर्शन लगाई गई है। उक्त प्रदर्शनी का शुभारम्भ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा शुक्रवार चार अक्टूबर की शाम को किया जाएगा। सेंटर में स्थापित छायाचित्र प्रदर्शनी में गांधीजी के पोरबंदर (गुजरात) मंे स्थित घर, साबरमती आश्रम, उनकी विभिन्न गतिविधियों पर आधारित जीवन-वृत्त को चित्रों के माध्यम से प्रदर्शित किया गया है। प्रदर्शनी चार से दस अक्टूबर तक लगाई जाएगी। साथ ही हाथकरघा (बुनकर) निगम के द्वारा हैण्डलूम कपड़ों की प्रदर्शनी विक्रय भी किया जाएगा। इसके अलावा स्वसहायता समूहों की महिलाओं के द्वारा निर्मित उत्पादों की भी यहां पर प्रदर्शनी लगाकर बेचा जाएगा।


0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने