रात के अंधेरे में हो रही रेत की चोरी, अधिकारियों की अनदेखी



कब तक महानदी का सीना छलनी होगा 


 

पवन निषाद विशेष संवाददाता 
मगरलोड (धमतरी )।  मगरलोड  ब्लाक  में अवैध रेत उत्खनन थमने का नाम नही ले रहा है । कई   शिकायत अधिकारियों के पास पहुंच चुकी है.  लेकिन उदासीनता के चलते एवं ध्यान नही देने के कारण रेत माफियाओ के हौसले बुलन्द  है।   ग्रामीण जनता इसे अधिकारियो के साथ सांठ गांठ मान रही है . क्योंकि शिकायत के बाद भी कार्यवाही नही होता। वही रात भर नदी के रेत उत्खनन के बाद माउंटचैन मशीन को झाड़ियों के पीछे छुपा कर रखा जाता है। मगरलोड ब्लॉक  के ग्राम मेघा,  परसवानी, बोडरा , धौराभाठा, कुंडेल , मोहदी ,  कपालफोड़ी,अमलीडीह, डाभा ,  शुक्लाभांठा, लडेर ,  में नदी से रेत निकल कर माफिया   गांव के खुले मैदान में डंप किया जाता है, जैसे ही शाम होता है  जेसीबी  से हाइवा गाड़ियों को लोडिंग किया जाता है .  जो सुबह तक चलता रहता है ।

रेत धमतरी , रायपुर ,  दुर्ग,भिलाई,राजनांदगांव,नागपुर में ऊंचे दामो में  बेचा जा रहा है।  क्षेत्र की जनता इस तरह के जिम्मेदारी अधिकारी, नेता,जनप्रतिनिधि के रवैये से काफी परेशान हो चुकी है और जीवनदायिनी नदी को बचाने अपील कर रही है। रात में हाइवा चलने से कम दाब वाली प्रधानमंत्री सड़क पर अधिक दाब की गाड़ियां फर्राटे से चलने से दुर्घटना की आशंका बनी रहती है तथा सड़को की बुरा हाल भी हो गया  है जिसे मरम्मत भी नही कराई जाती है। पिछले  दिनों  धमतरी कलेक्टर रजत बंसल ने रेत चोरी रोकने स्थानीय स्तर पर सरपंच, सचिव एवं प्रशासन में तहसीलदार, अनुविभाग के अधिकारी को निगरानी कर चोरी पाए जाने पर कार्यवाही करने की टीम में शामिल भी किया गया था लेकिन इसका असर अब तक देखने को नही मिला है। सम्बंधित पंचायत के सरपंच-सचिव भी कुछ कहने से बचाते नजर आये ।

 मैं अभी कलेक्टर मीटिंग में जा रहा हुँ आकर देखता हू । 
                                 एच आर ध्रुव तहसीलदार मगरलोड

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने