355रु में गन्ना ख़रीदने और अंतर राशि के मांग को लेकर गन्ना किसानों ने दिया धरना ,



उत्तम साहू
बालोद।जिले के गन्ना किसानों ने 355रु में गन्ना ख़रीदने और अंतर राशि की मांग को लेकर शनिवार को जिला मुख्यालय के बस स्टैंड में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया और अंतर राशि देने के बाद ही इस सत्र में गन्ना देने का निर्णय लिया और तहसीलदार रश्मि वर्मा को ज्ञापन सौंपा गया।धरना स्थल पर गन्ना उत्पादक किसान संघ के अध्यक्ष भोला राम देशमुख, उपाध्यक्ष कृष्णा राम साहू  संरक्षक छगन देशमुख, गन्ना कारखाना चेयरमैन बलदू राम साहू ने बताया कि कांग्रेस ने चुनावी घोषणा पत्र में355रु की दर से गन्ना ख़रीदने का वादा किया गया था किये गए वादे के आधार पर बकाया राशि 93रु75पैसा प्रति क्विंटल की राशि का भुगतान किया जाना चाहिए अभी तक किसानों को261रु25पैसे की दर पर भुगतान किया गया है और शक़्कर कारखाना में पेराई सत्र पुनः शुरू होने वाला है लेकिन नई सरकार बनने के बाद घोषणा करने के बाद अपने वादे को पूरे नहीं कर रही हैं और शासन प्रशासन को इस पर विचार करना चाहिए उन्होंने कहा कि यदि उनकी मांग पर शासन प्रशासन विचार नहीं करती हैं तो आने वाले सत्र में गन्ने की फसल नहीं लेंगे।
 
 पहले अंतर राशि फिर देंगे गन्ना
  गन्ना उत्पादक किसान सुभाष दास साहू,मनोहर सिन्हा, देवीलाल डड़सेना, तेजराम साहू,गणेश राम साहू,उमेश साहू,मनीष साहू,रामकुमार साहू ने बताया कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के समय अपने घोषणा पत्र में कहा है कि किसानों का गन्ना 355रु प्रति क्विंटल की दर में खरीदी जाएगी।कांग्रेस की सरकार अपने किये गए वादे को पूरा करे और बीते सत्र की अंतर की राशि का तत्काल भुगतान करें ।संघ के पदाधिकारियों द्वारा लगातार सरकार से मांग किया जा रहा है लेकिन अंतर की राशि का भुगतान आज तक नहीं हुआ है।उन्होंने कहा कि उनकी मांगों पर शासन प्रशासन चिंता नहीं करती हैं तो वे गन्ने की फसल लेना बंद कर देंगे। ज्ञात हो कि पूर्ववर्ती सरकार ने गन्ने की फसल के लिए जिले के किसानों को गन्ने की फसल लेने के लिए अनेक प्रकार के योजनाओं का लाभ देने की बात कही थी और आज जब किसान गन्ने की फसल ले रहे हैं तो उन्हें अपने मेहनत के पैसों के लिए सड़क पर उतरने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।जिले में बीते साल2021किसानों ने गन्ने की फसल लिया था जो आज घटकर1338हो गया है और धान की फसल की ओर रुख कर रहे हैं।अगर समय रहते सरकार ने गन्ना किसानों की ओर ध्यान नहीं दिया तो कारखाना बंद होने के कगार पर आ जाएगा।धरना प्रदर्शन में हीरासिंह साहू,ईश्वर साहू,यादराम साहू,भुवन साहू,उमेश सिन्हा, दुष्यंत साहू,सहित बड़ी संख्या के गन्ना किसान उपस्थित रहे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने