देखते ही देखते दुकानों में नमक लेने उमड़ी भीड़, जांच टीम ने की छापामार कार्यवाही



निर्धारित दर से अधिक मूल्य में नमक बेचने वाले दो व्यवसायियों से वसूले गए 3-3 हजार रूपए


Bhupendra sahu 
धमतरी 11 मई 2020। शायद यह कहीं कोई नहीं सोचा होगा कि जिस नमक के लिए महात्मा गांधी ने सत्याग्रह किया था आज उसी नमक को कुछ व्यवसायी कालाबाजारी कर अधिक दामों में बेच रहे होंगे । सोमवार की सुबह अचानक  यह  खबर  आग की तरह फैल गई कि नमक की किल्लत हो रही है। देखते ही देखते दुकानों में भीड़ उमड़ पड़ी  जैसे ही संयुक्त जांच दल को इसकी जानकारी मिली कार्यवाही के लिए निकल पड़े ।
 
कोविद-19 कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण की रोकथाम के लिए कलेक्टर रजत बंसल के निर्देशानुसार गठित संयुक्त जांच दल के द्वारा व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में लगातार दबिश देकर निर्धारित दर से अधिक कीमत पर आवश्यक वस्तुओं का विक्रय करने वाले व्यवसायियों के विरूद्ध कार्रवाई की जा रही है। इसी क्रम में आज शहर की कुछ दुकानों में नमक की कमी होने तथा अधिक मूल्य में बेचे जाने की शिकायत प्राप्त हुई। खाद्य विभाग, नापतौल, खाद्य एवं औषधि प्रशासन तथा नगर निगम के संयुक्त जांच दल द्वारा उक्त शिकायत पर संज्ञान लेते हुए नगर के विभिन्न व्यापारिक प्रतिष्ठानों की जांच की गई। इस दौरान सिहावा रोड पर स्थित मेसर्स आदेश किराना स्टोर्स और एक अन्य गजानंद किराना स्टोर में दबिश दी गई, जहां पर आवश्यक वस्तु में शामिल नमक को अधिकतम निर्धारित मूल्य से अधिक कीमत पर बेचा जाना पाया गया। उक्त दोनों दुकानों के संचालकों के विरूद्ध नियमानुसार वैधानिक कार्रवाई कर उनसे 3-3 हजार रूपए का जुर्माना वसूल किया गया। जांच टीम जब  आदेश किराना स्टोर्स पहुंची तो वहां पलारी का एक व्यवसाई भोपेन्द्र साहू ने बताया कि जिस बोरी को वह 170 रु में पहले खरीदता था उसे अभी 340 रु में खरीदा है । ऐसे ही सोरम  के  फुटकर व्यवसाई ने बताया कि मंडी के पास उन्होंने एक दुकान से 60रु  बोरी में  मिलने वाले  चमक नमक को 180रु बोरी में खरीदा ।
 
खाद्य अधिकारी ने बताया कि नमक की कमी के संबंध में उड़ाई गई अफवाह पर बताया गया कि नगरपालिक निगम क्षेत्रांतर्गत नमक की कोई कमी नहीं है तथा व्यापारियों के पास इसका पर्याप्त स्टाॅक उपलब्ध है। मांग के अनुरूप जिले में नमक की आपूर्ति सामान्य है। उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा सभी व्यापारियों को नमक के साथ-साथ अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बनाए रखने एवं निर्धारित मूल्य पर ही विक्रय करने के निर्देश दिए गए हैं। जांच टीम में खाद्य निरीक्षक नरेश पीपरे, खाद्य सुरक्षा अधिकारी अक्षय सोनी, विधिक माप नियंत्रण अधिकारी कमल जैन शामिल थे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने