पाठ क्षेत्र के कृषकों के लिए नाशपाती बना अतिरिक्त आय का साधन


नाशपाती की खेती से किसानों की कमाई का भी रिकॉर्ड बना

बलरामपुर जिले के किसानों की आय में बढ़ोत्तरी से  सुधर रहा हैजीवन स्तर

रायपुर ।बारिश के दिनों में जहां सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं, वहीं नाशपाती की खेती करने से किसानों की कमाई का भी रिकॉर्ड बना है, जिससे बलरामपुर जिले के किसानों की आय में बढ़ोत्तरी हो रही है और उनका जीवन स्तर सुधर रहा है।
बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के पाठ क्षेत्र के किसान अपनी लगन एवं मेहनत से उद्यानिकी फसलों में नाशपाती की खेती कर अच्छी आमदनी प्राप्त कर रहे है। ग्राम चांगरो के कृषक श्री साधू पिता रमेश ने बताया कि उद्यान विभाग के सहयोग से मैनें उद्यानिकी फसल नाशपाती की खेती शुरू की है। नाशपाती में फल जून महीने तक लग जाते हैं और इसी माह रायपुर, बिलासपुर, अम्बिकापुर के व्यापारी पेड़ में लगे फल को देखकर कीमत तय करते हैं एवं एडवांस राशि देकर चले जाते है और जुलाई के अंतिम सप्ताह में व्यापारी अपनी वाहन लेकर आते हैं।
 श्री साधू ने बताया कि उसके पास 20 नाशपाती के पौधे लगे हैं, जिससे लगभग 40 क्विंटल नाशपाती का फल प्राप्त होता है। जिससे उन्हें 50 से 60 हजार रूपये की आमदनी हो रही है। कृषक साधू ने बताया कि उसकी एक बेटी उच्च शिक्षा के लिए अब बाहर जाकर बी.एस.सी. फाईनल की पढ़ाई कर रही है। फसल की कमाई से वे प्रफुल्लित है, जिससे देखकर अन्य किसान भी नाशपाती की खेती करने पर अग्रसर हो रहे हैं।
उद्यान विभाग के सहायक संचालक श्री पतराम सिंह ने बताया कि हिन्डाल्को कंपनी द्वारा उत्खनन् पश्चात् खाली जमीन पर विभाग द्वारा वृहद क्षेत्र में नाशपाती पौधरोपण किया जा रहा है। जिले के पाठ क्षेत्र निम्न जलवायु व अधिक वर्षा के लिए अनुकूलित है। 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने