लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग

 

आसना में होगी बस्तर लोक नृत्य और साहित्य अकादमी की स्थापना

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज बस्तर जिले के चित्रकोट में “बनावां नंगत बस्तर” वन अधिकार, ग्राम विकास एवं सुपोषण कार्यशाला में शामिल हुए। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने लोहंडीगुड़ा में अनुविभागीय कार्यालय (राजस्व) खोलने की घोषणा की। साथ ही लोहंडीगुड़ा में महाविद्यालय खोलने के लिए आगामी बजट में प्रावधान करने की भी घोषणा की। उन्होंने ककनार और बिन्ता घाटी में निर्माणधीन सड़क को जल्द पूर्ण करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। मुख्यमंत्री ने इसके साथ ही 32 करोड़ 11 लाख 43 हजार रूपए के विभिन्न विकास कार्यों की घोषणा की। इनमें 19 करोड़ 6 लाख रूपए की लागत से बड़ांजी से आंजर तक सड़क निर्माण, 3 करोड़ 44 लाख रूपए की लागत से बेलर से तारागांव तक सड़क निर्माण, 2 करोड़ 57 लाख रूपए की लागत से एरमुर से कस्तूरपाल सड़क निर्माण, 2 करोड़ 93 लाख रूपए की लागत से टाकरागुड़ा से भाटपाल तक 2.25 किलोमीटर सड़क निर्माण, 3 करोड़ रूपए की लागत से बस्तर विश्वविद्यालय परिसर में 100 सीटर बालक छात्रावास निर्माण, 60 लाख रूपए की लागत से आसना में बस्तर लोक नृत्य एवं साहित्य अकादमी की स्थापना, 50 लाख रूपए की लागत से पुराना कृषि उपज मंडी परिसर में रैयत बाजार एग्री प्लाजा का निर्माण शामिल है।

 मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने चित्रकोट में लगभग 125 करोड़ 49 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। उन्होंने 97 करोड़ 24 लाख 35 हजार रुपए के 14 निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 28 करोड़ 25 लाख 44 हजार रुपए के 10 कार्यों का शिलान्यास किया।

    इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि बस्तर में जल संरक्षण की सम्भावना बहुत है यहाँ नदियाँ, नाले बहुत हैं, नालों पर बंधान, चेकडेम आदि का निर्माण कर बस्तर में पानी की कमी नहीं होने देना है, इसलिए सुराजी योजना के तहत नरवा योजना से सभी लोगो को जोड़ना है। उन्होंने कुपोषण को एक अभिशाप बताते हुए कहा कि इससे एक पीढ़ी ही नहीं बल्कि कई पीढ़ियां कमजोर हो जाती हैं। उन्होंने कहा कि कमजोर छत्तीसगढ़ और कमजोर बस्तर कभी भी विकसित क्षेत्रों का मुकाबला नहीं कर सकता, इसलिए इस समस्या का समूल नाश आवश्यक है। उन्होंने कुपोषण की समस्या के समाधान के लिए सभी लोगों को एकजुट होकर कार्य करने की अपील की।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने