छत्तीसगढ़ आर्थिक और समाजिक विकास का बनेगा रोल मॉडल - मुख्यमंत्री


छत्तीसगढ़ तीव्र गति से विकास की दिशा में आगे बढ़ रहा है


रायपुर।  मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ तीव्र गति से विकास की दिशा में आगे बढ़ रहा है। इसे आगे बढ़ाने के लिए पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत, अनुसूचित जनजाति को 32 प्रतिशत, अनुसूचित जाति को 13 प्रतिशत और सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को 10 प्रतिशत आरक्षण देकर राज्य शासन द्वारा ऐतिहासिक निर्णय लिया है। इस निर्णय से छत्तीसगढ़ आर्थिक और सामाजिक विकास का रोल मॉडल बनेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल जाज्वल्य देव की नगरी जिला मुख्यालय जांजगीर-चांपा स्थित के शासकीय टीसीएल कालेज खोखराभांठा के विशाल मैदान में अभिनंदन समारोह को संबोधित कर रहे थे। 

जांजगीर में हाईजिनिक मत्स्य बाजार स्थापित करने के लिए उन्होंने  एक करोड़ 10 लाख रूपये की घोषणा की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री बघेल ने पुलिस हाउंसिंग बोर्ड द्वारा 16 करोड़ से अधिक रूपये की राशि से पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों के लिए बने। 144 आवासों और 64 करोड़ 66 लाख रूपये की लागत से निर्मित पुल-पुलियों और सड़क मार्ग का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। सामाजिक न्याय और सामाजिक समरसता स्थापित करने के लिए 27 अगस्त को आयोजित मंत्रिमण्डल की बैठक में आरक्षण के ऐतिहासिक निर्णय पर विभिन्न समाज के प्रमुखों द्वारा कार्यक्रम को संबोधित किया गया और उन्होंने मुख्यमंत्री श्री बघेल का महामाला पहनाकर भव्य अभिनंदन किया गया। 
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत उचित मूल्य दुकानों से राशन प्राप्त करने वाले गरीबी रेखा श्रेणी के पांच सदस्यीय परिवार को प्रतिमाह 35 किलो और छठवें सदस्य से प्रति सदस्य अतिरिक्त 7 किलो चांवल दिया जायेगा। इसी तरह एपीएल परिवारों को भी 10 रूपये किलो मंे चांवल दिया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों की खुशहाली के लिए पहले दिन से कदम उठाए हैं। शपथ ग्रहण के दो घंटे के भीतर ही सहकारी केन्द्रीय बैंकों के 14 लाख 61 हजार किसानों का कृषि ऋण माफ करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया। इससे किसानों में उत्साह का माहौल है। उन्होंने कहा कि सहकारी केन्द्रीय बैंकों से कर्जमाफ के बाद किसानों द्वारा खेती-किसानी के लिए ग्रामीण बैंकों और राष्ट्रीयकृत बैंकों से लिये गये कर्ज को भी माफ किया गया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में अब हर साल किसानांे का धान 2500 रू. प्रति क्ंिवटल की दर से खरीदा जायेगा। 
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ वन, खनिज सम्पदा से परिपूर्ण है। हमारे पुरखों ने नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण की नई सोच और नये कार्यो के सपने देखे थे। उनके सपनों को साकार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कुपोषण एवं एनीमिया से पीड़ित महिला एवं बच्चों के स्वास्थ्य मंे सुधार लाने के लिए बस्तर से सुपोषण अभियान प्रारंभ किया गया है। यह अभियान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिन दो अक्टूबर से प्रदेश के सभी जिलों मंे प्रारंभ किया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की लोक परंपरा एवं संस्कृति के अनुरूप हरेली, तीजा, विश्व आदिवासी दिवस, छठ पूजा एवं मां कर्मा जयंती पर छत्तीसगढ़ की नई सरकार ने सार्वजनिक अवकाश प्रदान कर राज्य के नागरिकों को गौरवान्वित किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1 अगस्त को आयोजित हरेली तिहार को बड़े उत्साह से पूरे प्रदेश में मनाया गया।  
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि राज्य शासन द्वारा खेल गतिविधियों को बढ़ाने का भी कार्य किया गया है। राज्य में खेल प्राधिकरण के माध्यम से छात्रावास और स्कूलों में अध्ययनरत बच्चांे को आगे आने का मौका मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि हाथियों के लिए लेमरू एनीफेंट रिजर्व केन्द्र बनाया जा रहा है। जिससे हाथियों को स्थायी ठिकाना मिलेगा और उनसे होने वाले नुकसान पर अंकुश लगेगा। उन्होंने कहा कि स्थानीय संसाधनों को विकसित करने के लिए नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी योजना का संचालन किया जा रहा है। जिससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था की दशा और दिशा बदलने में सार्थक साबित होगी। उन्होंने कहा कि किसानों को फसल बचा पाना मुश्किल हो रहा था। इसलिये राज्य सरकार द्वारा गौठानों का निर्माण किया जा रहा है। गौठानों के सुचारू संचालन के लिए गठित गौठान समिति को प्रतिमाह 10 हजार रूपये की सहायता राशि दी जायेगी। 
छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की केबिनेट ने आरक्षण के संबंध में 27 अगस्त को ऐतिहासिक और अभूतपूर्व निर्णय लिया है। उन्होंने 1945 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र मंे लेमरू एनीफेंट रिजर्व केन्द्र बनाकर अपने साहसिक निर्णय का परिचय दिया है। इसी तरह उन्होंने छत्तीसगढ़ की परंपरा और संस्कृति के अनुरूप मनाई जाने वाली हरेली, तीजा, विश्व आदिवासी दिवस, छठ पूजा एवं मां कर्मा जयंती पर सार्वजनिक अवकाश की प्रशंसा की। 
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव, चन्द्रपुर विधायक श्री रामकुमार यादव ने भी अभिनंदन समारोह को संबोधित किया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्री नंदकिशोर हरबंश, पूर्व विधायक श्री मोतीलाल देवांगन, गणमान्य जनप्रतिनिधि, बिलासपुर राजस्व संभाग के कमिश्नर श्री बी एल बंजारे, पुलिस महानिरीक्षक श्री प्रदीप गुप्ता, कलेक्टर जांजगीर श्री जनक पाठक और पुलिस अधीक्षक श्रीमती पारूल माथुर उपस्थित थीं। 
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने राष्ट्रीय पोषण माह का शुभांरभ किया
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अभिनंदन समारोह के अवसर पर आज राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारंभ किया। श्री बघेल ने हितग्राही पांच महिलाओ को सुपोषण तीज पोटली भेंटकर शुभकामनाएं दी। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा लगाए गए स्टॉल का मुख्यमंत्री ने अवलोकन किया। छत्तीसगढ़ के पारंपरिक त्यौहार तीजा के महत्व को प्रदर्शित करने के लिए प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। स्टॉल में ठेठरी, खुर्मी, गुझिया सहित विभिन्न छत्तीसगढ़िया व्यंजनांे की प्रदर्शनी लगाई गयी। मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप विभागीय अधिकारियो ने जिले को कुपोषण मुक्त बनाने का संकल्प लिया। उल्लेखनीय है कि सितंबर माह में राष्ट्रीय सुपोषण माह का आयोजन किया जाएगा।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने