ओड़िशा बाॅर्डर से लगे गांवों में विशेष सतर्कता बरतने सरपंच-सचिवों को दी नसीहत



 कलेक्टर-एसपी ने ग्राम बोरई में बैठक लेकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने दिए टिप्स 


 

धमतरी, 03 मई 2020/ कोरोना वायरस कोविद-19 के संक्रमण से बचाव को लेकर कलेक्टर रजत बंसल एवं एस.पी.  बी.पी. राजभानू ने रविवार  शाम ओड़िशा प्रांत की सीमा से लगे नगरी विकासखण्ड के सुदूर ग्राम बोरई में जाकर पंचायत प्रतिनिधियों के बीच चैपाल लगाकर उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों व निर्देशों का हरहाल में पालन करने पर जोर दिया, साथ ही विशेष सतर्कता बरतने को लेकर टिप्स भी दिए।
कलेक्टर ने आज शाम चार बजे ग्राम बोरई में स्थित छात्रावास में आसपास की ग्राम पंचायतों के सरपंच, सचिवों तथा रोजगार सहायकों तथा पटेलों की संक्षिप्त बैठक लेकर बताया कि कोरोना वायरस पूरे विश्व के लिए एक चुनौती बनकर उभरा है, जिसे फिलहाल सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क का उपयोग तथा हाथों को अच्छी तरह से धोकर ही हराया जा सकता है। यही एकमात्र उपचार भी है जिसके जरिए अपने शरीर को सुरक्षित रखा जा सकता है। उन्होंने आगे कहा कि ग्राम बोरई चूंकि ओड़िशा प्रांत की सीमा से लगा हुआ है इसलिए यहां के लोगों को अपेक्षाकृत अधिक सतर्क व सजग रहने की आवश्यकता है। कोई भी नया चेहरा दिखाई दे, तो उसके बारे में तत्काल उच्चाधिकारियों को अवगत कराएं। इसके अलावा आवश्यक वस्तुओं एवं सामग्रियों का परिवहन करने वाले विभिन्न प्रकार के वाहनों, वाहन चालकों व क्लीनरों पर निगरानी रखते हुए यह सुनिश्चित करें उनके द्वारा मास्क का उपयोग किया जा रहा है अथवा नहीं। इसी तरह सामाजिक एवं शारीरिक दूरी (सोशल व फिजिकल डिस्टेंसिंग) के नियमों का अनुसरण किया जा रहा है कि नहीं। कलेक्टर ने बताया कि देश के अन्य राज्यों की तुलना में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के सतत् मार्गदर्शन में छत्तीसगढ़ बेहद सुरक्षित है और इसे आगे बनाए रखना भी बेहद चुनौतीपूर्ण है। उन्होंने स्पष्ट किया कि अन्य राज्यों में रोजगार की तलाश में गए मजदूरों को अब उनके गृहग्राम में वापस लाने की कवायद राज्य शासन द्वारा की जा रही है। हालांकि उन्हें भी 14 दिनों के क्वाॅरन्टीन में रखने के बाद पूरी तरह आश्वस्त होने के बाद ही घर भेजा जाएगा, लेकिन इस बीच आने वाले समय में और अधिक सावधानी व सतर्कता बरतने की जरूरत है। कलेक्टर ने एसडीएम नगरी श्री सुनील शर्मा को परिवहन में लगे चालकों, परिचालकों के लिए भोजन, शौचालय आदि की पृथक् से व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
इस बीच ग्रामीणों ने बताया कि वैसे तो ग्रामीण सोशल डिस्टेंसिंग का बेहतर ढंग से पालन कर रहे हैं, किन्तु ग्राम बोरई में शुक्रवार को लगने वाले साप्ताहिक बाजार में भीड़ अधिक जुट जाती है, जिससे डिस्टेंसिंग का पालन सही ढंग से नहीं हो पाता। इस पर एसपी ने बाजार में पुलिस बल अथवा अन्य बल के जवानों की तैनाती सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इसी तरह अस्थायी चैकी में निगरानी सख्त कर सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक पुख्ता बनाने के निर्देश एसडीओपी नगरी को दिए। इस दौरान पंचायत प्रतिनिधियों ने भी शासन के आदेशों का पालन करने तथा दिशानिर्देशों के अनुरूप कार्य करने की बात कही।






 अस्थायी नाका तथा चेकपोस्ट का कलेक्टर-एसपी ने किया निरीक्षण
कोरोना वायरस कोविद-19 के संभावित संक्रमण से बचाव के लिए नगरी विकासखण्ड के ग्राम बोरई में स्थापित किए गए अस्थायी चेकपोस्ट तथा वन विभाग के जांच-नाका का निरीक्षण किया। इस दौरान अधिकारीद्वय ने चेकपोस्ट पर तैनात सुरक्षा कर्मियों से चर्चा कर बिना अनुमति के ओड़िशा राज्य से आने वाले लोगों को रोकने तथा स्थिति की गम्भीरता को लेकर समझाइश देने की बात कही। इसके अलावा विशेष परिस्थिति में आने-जाने वालों की जानकारी पंजी में दर्ज करने व स्थानीय ग्रामीणों की मदद से बाहर के व्यक्ति की पहचान कर उन्हें जिले में प्रवेश नहीं करने देने के निर्देश दिए। इस अवसर पर एसडीएम व एसडीओपी नगरी सहित सीआरपीएफ के अधिकारी उपस्थित थे। इसी दौरान ग्रामीणों के द्वारा बाहरी व्यक्ति का ग्राम में प्रवेश रोकने के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। ग्राम के मुख्य प्रवेश द्वार पर स्वहायता समूहों की महिलाओं तथा कोटवार के द्वारा मार्ग अवरूद्ध कर उनके द्वारा आगंतुकों की पूछताछ कर पंजी संधारण किए जाने की कलेक्टर ने काफी सराहना की तथा खुद को भी सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक उपाय सुनिश्चित करने की समझाइश भी दी।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने