अजीत जोगी का निधन प्रदेश के लिए अपूरणीय क्षति: मुख्यमंत्री श्री बघेेल,तीन दिन का राजकीय शोक

 

स्वर्गीय श्री जोगी का राजकीय सम्मान के साथ 30 मई को गौरेला में होगा अंतिम संस्कार

रायपुर :

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत प्रमोद कुमार जोगी के निधन पर गहरा दुःख प्रकट किया है। श्री जोगी का शुक्रवार को यहां एक निजी चिकित्सालय में इलाज के दौरान निधन हो गया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने श्री जोगी के निधन पर राज्य में आज से तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा और कोई भी शासकीय समारोह आयोजित नहीं किए जाएंगे। स्वर्गीय श्री जोगी का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ कल 30 मई को गौरेला में होगा।
      मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अपने शोक संदेश में कहा है कि श्री जोगी का निधन छत्तीसगढ़ के लिए अपूरणीय क्षति है। उन्होंने प्रदेश के विकास में श्री जोगी के योगदान का स्मरण करते हुए कहा कि राज्य बनने के बाद उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य के तीव्र विकास की रूपरेखा तैयार की और एक कुशल राजनीतिज्ञ एवं प्रशासक के रूप में राज्य को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।  मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के बाद श्री जोगी के नेतृत्व में बनी सरकार में केबिनेट मंत्री के रूप में कार्य करने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि श्री जोगी ने छत्तीसगढ़ राज्य में गांव, गरीब और किसानों के कल्याण के लिए काम करने की दिशा निर्धारित की।
     मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने स्वर्गीय श्री जोगी के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें इस दुख की घड़ी को सहन करने की शक्ति प्रदान करने और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है। ज्ञातव्य है कि श्री जोगी बीते 9 मई से उपचार हेतु चिकित्सालय में भर्ती थे। 

 अजीत जोगी  का सफर नामा 

पूर्व मुख्यमंत्री  अजीत जोगी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद प्राध्यापक  के रूप कैरियर की शुरूआत की। पहले आई.पी.एस. के रूप में अपनी सेवाएं दी तत्पश्चात भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए चयनित हुए। अविभाजित मध्यप्रदेश के दौरान रायपुर सहित कई जिलों के कलेक्टर रहे। श्री जोगी सांसद, विधायक भी रहे। एक नवंबर 2000 को छत्तीसगढ़ राज्य बना तो वे राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री बने।

पूरा नाम – अजीत प्रमोद कुमार जोगी
जन्म- मरवाही के जोगीसार में 29 अप्रैल 1946
पत्नी: रेणु जोगी, पुत्र: अमित जोगी
योग्यता- इंजीनियरिं,आईपीएस आईएएस 
1967 से 1968 तक व्याख्याता के रुप में काम की
भारतीय पुलिस सेवा और भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए चुने गए
1974 से 1986 तक मध्यप्रदेश के कई शहरों में कलेक्टर रहे
1986 में कांग्रेस ज्वाइन कर राजनीतिक कैरियर की शुरुआत
 1986 में ही कांग्रेस ने राज्यसभा में भेजा गया
1989 में लोकसभा चुनावों के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक बने
1997 से 1999 तक कांग्रेस संसदीय दल के सदस्य रहे
1997 से 1999 तक कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रहे
1998 में रायगढ़ से 12 वीं लोक सभा के लिए चुने गए
1 नवंबर 2000 को छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बने
2000 से 2003 तक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रहे
2004 में महासमुंद से 14 वीं लोकसभा के लिए चुने गए
2008 में मरवाही से विधायक चुने गए
2014 में 133 वोट से लोकसभा चुनाव हार गए
जून 2016  में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ की स्थापना की
28 मई को रायपुर के निजी अस्पताल में ली अंतिम साँस 
 

 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने