सप्त दिवसीय महामृत्युंजय जप अनुष्ठान आराधना एवं महा रुद्राभिषेक:भगवान शंकर कल्याण के प्रतीक




धमतरी। सावन मास के दिव्य पावन अवसर पर साम्बसदाशिव  महामृत्युंजय भगवान की कृपा से पुरी पीठाधीश्वर श्री जगतगुरु शंकराचार्य महाराज की कृपा  पूर्ण आशीर्वाद के फसल स्वरूप सप्त दिवसीय महामृत्युंजय जप अनुष्ठान आराधना एवं महा रुद्राभिषेक समारोह में राजेश गोपाल शर्मा परिवार की ओर से जन कल्याण सनातन संस्कृति सौरभ थाना महामारी से निवारण हेतु किया गया है।

इस पावन महोत्सव में धमतरी नगर एवं श्रद्धालु तथा  तथा धर्म संघ पीठ परिषद आदित्य वाहिनी,आनंद वाहिनी के पदाधिकारी शिष्यगण सेवा में तात्पर्य है 9 वैदिक विद्वानों के साथ यज्ञाचार्य आचार्य पंडित  झम्मन शास्त्री जी पीठ परिसर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश उपाध्यक्ष छत्तीसगढ़ के पावन सानिध्य एवं मार्गदर्शन में कार्यक्रम संपन्न हो रहा है। जिसमें वातावरण धर्मामय, भक्तिमय, बना हुआ है नित्य वेदधनी से पर्यावरण शुद्ध हो रहा है पूजन  अभिषेक आरती के परमात आचार्य श्री ने अपने संदेश में बताया भगवान शिव की उपासना से  मनोवांक्षीत फल की प्राप्ति होती है शिव का आर्य है कल्याण स्वरूप मंगल के धाम का नाम शिव है जिनके नाम  स्मरण से ही सर्व अशिष्ट अमंगलों का विनाश हो जाता है भगवान शंकर जी की पूजा का अनादिकाल से ही परम्परा रही है परिवार समाज तथा देश में सुख शांति समृद्धि आनंद की प्राप्ति के लिए सदैव शिव जी के शरण में निश्चित भाव से उपासना कल्याण कामी भक्तों को सदा फप्ते रहना चाहिए जिससे लौकिक पारलौकिक उत्कृष्ट की प्राप्ति सदैव है सकल आधीव्याधी मय मृत्युपीड़ा  महामारी संकट अकाल मृत्यु आदि के निवारण हेतु रुद्राभिषेक एवं मृत्युंजय जप आराधना विशेष महत्व है।

 आचार्य श्री ने बताया सनातन शास्त्रों में प्रकार की मूर्ति पूजा का विधान है मिही का पाप्तमय, गोमय ,बालू स्फटिक ,पारद ,रजत ,स्वर्ण, धातु आदि की प्रतिमा की पूजा का विधान है।सकल आधी व्याधि रोग निवृत्ति  के लिए कुशायूम्त जल से अभिषेक के द्वारा लाभ होता है। धनधान्य समृद्धि के लिए इंशुरंस गन्ना के रस से अभिषेक करने का विधान है।पूर्ण प्राप्ति के लिए गौ दुग्धो  के द्वारा अभिषेक,वृष्टि के लिए पर्याप्त वर्षा हो इसके जलधारा शिव पिप: पर्याप्त जलाभिषेक होते रहना चाहिए।नर्मदेश्वर शिवलिंग सर्व सिद्धि प्रदायक है स्फटिक मणि शिवलिंग पारसमणि शिवलिंग पूजन से विशेष सिद्धि की प्राप्ति होती है।

इसके साथ साथ आज गोस्वामी तुलसीदास जी महाराज की जयंती आचार्य श्री के सानिध्य में गौस्वामी तुलसीदास जयंती उत्सव पूर्वक मनाया गया इस अवसर पर शास्त्री जी ने संबोधित करते हुए तुलसीदास जी द्वारा लिखित साहित्यों का अधिक से अधिक प्रचार हो श्री राम कथा के माध्यम से समाज मे एकता एवं अखण्डता तथा प्रेम सुख शांति समृद्धि के स्थापना के लिए रामायण का प्रचार गांव गांव में अधिक हो प्रत्येक घरों में बच्चो को रामायण पढ़ने की प्रेरणा मिले जिससे नैतिक मूल्यों की स्थापना हो सकेगा आदर्श समाज तथा राष्ट्र की स्थापना के लिए रामायण मानव मात्र के लिए आचार संगीता है। इस कार्यक्रम में गोपाल शर्मा,  राजेश गोपाल शर्मा , राहुल बजरंग अग्रवाल , सुसील शर्मा, राधेश्याम अग्रवाल, मनोज पारख, भूषण शार्दूल, पी बी पराड़कर, संजय लछवानी, भारत दाऊ, बालाजी दाऊ, दिलीप राज सोनी, रोहित शर्मा , रोहन शर्मा , विराट दाऊ, आरती  शर्मा , राधा अग्रवाल ,  कीर्ति सार्दुल, ग्राम सारंगपुरी और खरेंगा से सुभाष साहू , मोहन साहू, राम खिलावन साहू , तरुण साहू, राजेन्द्र भारती, पंचू साहू,शोभा साहू , विमल कुमार और समस्त शर्मा परिवार उपस्थित रहे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने