ग्रामीण अर्थव्यवस्था और किसानों के हित में गोधन न्याय योजना शुरू की गई- मनोज मंडावी


उमरगांव के छिंदीटोला गोठान में किया गया जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित


धमतरी 20 जुलाई 2020। छत्तीसगढ़ के पहले त्यौहार हरेली के पावन अवसर पर प्रदेश सरकार की महत्ती ’गोधन न्याय योजना’ की शुरुवात धमतरी जिले के छिंदीटोला (उमरगांव) गोठान से की गई। मुख्य अतिथि की आसंदी से विधानसभा उपाध्यक्ष  मनोज सिंह मंडावी ने गोधन न्याय योजना को प्रदेश सरकार की महत्ती योजना बताया। उन्होंने कहा कि सौभाग्य की बात है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसान और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने गोधन न्याय योजना शुरू की है। जहां पशुपालकों से दो रुपए किलो की दर से गोबर खरीदा जाएगा, वहीं गोठनों में इसका वर्मी खाद तैयार कर किसानों को जैविक खाद के रूप में उपलब्ध कराया जाएगा। प्रदेश के मुखिया ने छत्तीसगढ़ के पहले तिहार हरेली में इस योजना की शुरुवात कर किसानों के हित में कार्य करने की प्रतिबद्धता को दोहराया है। उन्होंने इस मौके पर राज्य सरकार द्वारा लिए गए नीतिगत फैसलों से उपस्थितों को अवगत कराया।
सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए योजना की शुरुवात होने पर हर्ष जताया कि पशुपालकों को गोबर बेचने से सीधे-सीधे आर्थिक लाभ होगा, साथ ही किसानों को भी वर्मी खाद की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी। उन्होंने कहा कि अभी गोठान प्रारंभिक अवस्था में है, लेकिन इसे और बेहतर करने का प्रयास होगा, ताकि गांव की ज्यादा से ज्यादा गतिविधियां यहां से संचालित कर ग्रामीणों को आर्थिक रूप से सशक्त किया जा सके। इस मौके पर पूर्व विधायक धमतरी  गुरुमुख सिंह होरा ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल की सराहना की कि किसानों के हित में योजना की शुरुवात करने का निर्णय काफी उत्साहवर्धक है। स्वागत भाषण सरपंच उमरगांव  सुरेश मरकाम ने दिया।

ज्ञात हो कि वनांचल नगरी के उमरगांव के छिंदीटोला में चार एकड़ क्षेत्र में बने इस गोठान में कुल 360 पशुओं को रखा जाता है। इसमें 300 गाय, 60 भैंस वंशी पशु हैं। उमरगांव के इस पारा में कुल 1500 परिवार में 165 पशुपालक हैं। इस आदर्श गोठान में कोटना, बर्मी बेड, फेंसिंग इत्यादि की व्यवस्था है। नजदीक में चारागाह भी बनाया गया है। आज के कार्यक्रम के अवसर पर इस चारागाह में मक्का, बाजरा और ज्वार के बीज रोपे गए, जिसके पत्तों को पशुओं को चारा के रूप में उपलब्ध कराया जाएगा। इस मौके पर बताया गया कि इन 360 पशुओं का प्रतिदिन औसतन 2160 किलो गोबर को गोठान समिति द्वारा खरीदा जाएगा।  गोधन न्याय योजना की शुरुवात के मौके पर आज यहां 05 पशुपालकों से लगभग 30 किलो गोबर भी 2 रूपए प्रति किलो की दर से खरीदा गया। हितग्रहियों को इस अवसर पर गोबर क्रय पत्रक भी दिया गया, इसमें एक माह तक खरीदे गए गोबर की एंट्री की जाएगी। यहां लगभग 3 माह में वर्मी खाद तैयार होगा, जिसे सहकारी समितियों को 8 रुपए प्रति किलो की दर से बेचा जाएगा।

कार्यक्रम में पशु चिकित्सा विभाग की ओर से राष्ट्रीय पशुधन योजना के तहत चार पशु पालकों को चारा बीज, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत पैरा यूरिया उपचार के लिए गोठान समिति को पोलीथीन शीट निःशुल्क प्रदाय किया गया। वन विभाग की ओर से गोठान में 125 वनौषधियुक्त हर्रा, बेहरा, आंवला आदि के पौधे रोपे गए।  कार्यक्रम में जिला पंचायत सदस्य  मनोज साक्षी, जनपद अध्यक्ष दिनेश्वरी नेताम, उपाध्यक्ष हुमीत लिमजा, पूर्व विधायक अंबिका मरकाम, पूर्व कैबिनेट मंत्री  माधव सिंह ध्रुव, कलेक्टर  जय प्रकाश मौर्य, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत  नम्रता गांधी सहित अन्य अधिकारी और ग्रामीण उपस्थित रहे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने