कोविड अस्पताल में भर्ती भाइयों की कलाइयां नही रही सुनी,नर्सों ने बांधी राखी, आंखें हुई नम



भुपेंद्र साहू
धमतरी।भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन दोनों के लिए महत्वपूर्ण होता है ।कोरोना संक्रमण काल में लॉकडाउन के चलते कई ऐसे भाई हैं जिनके पास बहनों की राखी नहीं पहुंच पाई और कई बहनें ऐसे हैं जो अपने भाई को राखी नहीं बांधी पाई ।

ऐसे ही धमतरी में दो विशेष जगह स्वास्थ्य विभाग की पहल पर रक्षाबंधन मनाया गया।एक महत्वपूर्ण स्थान कोविड-19 अस्पताल जहां पर भाई भी संक्रमित मरीज है और किसी के बहने भी वहां पर भर्ती है ,लेकिन इनकी व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग के द्वारा की गई । स्वास्थ्य विभाग की ओर से बहन बनकर पहुंची नर्सें पीपीई किट में ग्लब्स, मास्क और पूरे एहतियात के साथ वहां मौजूद भाइयों को राखी बांधी ।इस दौरान भाइयों की आंखों में आंसू भी आ गए और उन्हें बहनों की कमी महसूस नहीं हुई ।


इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ डीके तुर्रे ने बताया कि वहां पर जो भाई बहन थे उनके लिए राखी की व्यवस्था कराई गई थी ।फल फ्रूट एवं अन्य खाद्य सामग्री भी उन्हें उपलब्ध कराया गया।

दूसरा स्थान रानी बगीचा स्थित कुष्ठ आश्रम रहा जहां
प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य के संरक्षण में cmho डॉ डी के तुर्रे, सीईओ जनपद धमतरी अमित दुबे, जिला संगठक रेडक्रास प्रदीप कुमार साहू , स्वास्थ्य  टीम की  उपस्थिति में  महिला स्वसहायता समूह द्वारा निर्मित बांस की राखी को बांध कर रक्षाबंधन पर्व  मनाया गया । वहां निवासरत सभी परिवार को मिठाई व खीर पूड़ी वितरित की गई।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने