गंगरेल बांध में आवक बने रहने से रेडियल गेट से छोड़ा जा रहा है पानी,रुद्री से भी डिस्चार्ज जारी



भूपेंद्र साहू 
धमतरी।गंगरेल बांध में पानी की आवक लगातार बनी हुई है जिसे देखते हुए बांध के दो रेडियल गेट से डिस्चार्ज भी किया जा रहा है। बुधवार शाम 6 बजे तक की स्थिति में बांध में 3546 क्यूसेक पानी की आवक बनी हुई है जिसे देखते हुए दो रेडियल गेट से 3182 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

 इसके अलावा पेन स्टॉक से 1650 और एच चार से 402 क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज जारी है ।इस तरह से बांध से कुल 5234 क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज बना हुआ है। 31.350 टीएमसी पानी भर चुका है जिसमें वाटर लेवल 348.46 मीटर हो चुका है।97.04% गंगरेल बांध भर चुका है। यदि एक-दो दिन में अच्छी बारिश होती है और आवक बढ़ जाती है तो डिस्चार्ज को बढ़ाया जा सकता है।
रुद्री जल संसाधन विभाग के एसडीओ डीएस कुंजाम ने बताया कि रुद्री बराज से 5100 क्यूसेक पानी नहर में छोड़ा जा रहा है। डिमांड के हिसाब से रोजाना 500 क्यूसेक पानी बढ़ाया जाता है।


जिले की औसत वर्षा 1000 सेंटीमीटर पार हुई, जलाशय भी हुए लबालब
पिछले सप्ताह हुई अच्छी बारिश के चलते एक जून से अब तक जिले की औसत वर्षा का आंकड़ा 1000 सेंटीमीटर से आगे निकल गया है। कलेक्टोरेट स्थित भू अभिलेख शाखा से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक जिले की औसत वर्षा 1005 सेंटीमीटर दर्ज की गई है। जिले में चालू मानसून सीजन में अब तक कुल 4019.6 मिलीमीटर बारिश हुई है, जिसमें सबसे ज्यादा औसत वर्षा धमतरी तहसील में 1180 सेंटीमीटर, दूसरे स्थान पर कुरूद तहसील रही, जहां पर 1031 सेंटीमीटर, तीसरे स्थान पर नगरी तहसील 936.4 सेंटीमीटर तथा सबसे कम वर्षा मगरलोड तहसील में 936.4 सेंटीमीटर आंकी गई है। इस तरह जून माह से अब तक जिले की औसत वर्षा 1005 सेंटीमीटर रिकाॅर्ड की गई है। इसी तरह जिले के सभी जलाशय भी लबालब हो चुके हैं। जल संसाधन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान समय में रविशंकर जलाशय (गंगरेल बांध) 97.4 प्रतिशत, बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव (मुरूमसिल्ली) जलाशय 99.01 प्रतिशत, दुधावा जलाशय 92.61 प्रतिशत तथा सोंढूर जलाशय 86.29 प्रतिशत जलभराव है। सभी बांधों के कैचमेंट एरिया से पानी की सतत् आवक बनी हुई है। 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने