पर्यटन स्थलों को नशा प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने कलेक्टर से मांग



धमतरी।संत रविकर साहेब  के संरक्षण में संत कबीर सेवा संस्थान देवपुर के प्रतिनिधियों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर पर्यटन क्षेत्रों को नशा प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने की मांग की है l
 कहा कि मुख्य रूप से देवपुर डोंगेस्वर धाम के साथ-साथ नरहरा, गंगरेल, जबर्रा एवं धमतरी जिले के संपूर्ण पर्यटन स्थल को नशा प्रतिबंधित एवं पॉलीथिन प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर बोर्ड लगाया जाए l साथ ही स्थाई रूप से समाधान के लिए पंचायत एवं स्थानीय समिति को लिखित रूप में निर्देश किया जाए ।

 धार्मिक, आध्यात्मिक एवं पर्यटन स्थल शांति आनंद और प्रेरणा की जगह है जहां पर लोग सुकून के लिए पहुंचते हैं वहां पर कुछ अराजक तत्व पहुंचकर शराब, गुटखा, बीड़ी, तंबाकू, गुड़ाखू एवं सिगरेट धूम्रपान सेवन करते हैं जिससे सात्विक लोगों को परेशानी होती है एवं बच्चों को गलत प्रेरणा मिलता है l साथ ही साथ पर्यटन स्थलों में पॉलिथीन, पानी पाउच आदि के प्रयोग से गंदगी फैलती है जिससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है।
इसलिए पर्यावरण संरक्षण एवं संस्कार, स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कबीर संस्थान की ओर से संपूर्ण पर्यटन क्षेत्रों को नशा प्रतिबंधित एवं पॉलीथिन प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने का मांग की गई है ।
कलेक्टर जेपी मौर्य ने इस पर कहा है कि इसको अमल करेंगे और लिखित आदेश जारी कर बोर्ड भी लगवाएंगे ।

संस्थान की ओर से देवपुर पर्यटन स्थल के विकास हेतु भी विभिन्न मांग रखा गया जिसमें वाचनालय, ग्रंथालय ओपनजिम, बच्चों के लिए खेलकूद व्यवस्था, यात्री प्रतीक्षालय  प्याऊ स्वागतद्वार, हाईमास्ट लाइट, सभाभवन, मेला स्थल सौंदर्यीकरण, गार्डन बागवानी, पुलिया निर्माण, नाली निर्माण, उप स्वास्थ्य केंद्र संचालन, नया हायर सेकेंडरी स्कूल आरंभ करने, व्यवसायिक परिसर, मिनी स्टेडियम मुक्तिधाम/प्रतिक्षालय के साथ ही विभिन्न पर्यटन विकास हेतु मास्टर प्लान के साथ कार्य करने हेतु मांग रखा । इस अवसर पर संत  रविकर साहेब  के साथ संत  शोधकर साहेब, अवनेंद्र साहू उपाध्यक्ष जनपद पंचायत धमतरी एवं संस्थान के सदस्यगण उपस्थित रहे l

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने