कृषि बिल पर विधायक के साथ किसान यूनियन की हुई स्वस्थ परिचर्चा

 


धमतरी।किसान संघ जो एक लंबे समय से क्षेत्र के किसानों की समस्याओं के निराकरण के लिए संघर्षरत है। जिनके प्रतिनिधि कई बार पुलिस की लाठी भी खाए, जेल की यातनाएं भी सही और इन्ही लोगों की पहचान किसानों के हित चिंतक के रूप में हैं। लीला राम साहू प्रदेश किसान संघ प्रदेश संयोजक, घनाराम साहू किसान संघ जिलाध्यक्ष सहितअन्य लोगों का एक प्रतिनिधि मंडल विधायक रंजना डिपेंद्र साहू से मिलकर कृषि बिल के संबंध में व्यापक चर्चा की। 

विधायक श्रीमती साहू ने प्रतिनिधिमंडल का शंका समाधान करते हुए कहा कि बिल के आ जाने से कृषि उपज मंडी की व्यवस्था यथावत रहेगी, वह किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं होगी। साथ ही किसान अपनी उपज को देश के किसी भी कोने में जहां उसे उचित दाम एवं अधिक दाम मिले, बेचने पर स्वतंत्र रहेगी है। कृषि बिल में महत्वपूर्ण प्रावधान यह दिया गया है कि उपज का खरीदने वाले के साथ संविदा फसल की होगी ना की जमीन की। निर्धारित अवधि में किसान को भुगतान करने की बाध्यता भी सम्मिलित है। 

विधायक रंजना साहू ने कृषि बिल को किसान हितैषी तथा उपज को बेचने के लिए बिचौलिया प्रथा की समाप्ति बताया।  किसान संघ के प्रमुख प्रतिनिधि लीलाराम साहू, घनाराम साहू ने यह कहा कि देश के विशेषकर दिल्ली के संदर्भ में किए जा रहे आंदोलन पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए विधायक रंजना साहू से मांग की है कि आप क्योंकि कृषक परिवार की बहू हैं, किसानी आपकी आजीविका का माध्यम है, इसलिए किसानों के दर्द को समझते इस संबंध में पत्राचार करें। जिस पर  श्रीमती साहू ने देश के प्रधानमंत्री तथा कृषि मंत्री को पत्र लिखकर किसान संघों की मांगों से संबंधित भावनाओं से अवगत कराते हुए, कृषि तथा कृषि भूमि से संबंधित बिल से किसान के साथ सार्थक चर्चा करते हुए संतुष्टि पूर्व समाधान निकाला जावे। इससे पूर्व विधायक  के साथ उपस्थित सभी किसानों को आत्मिक रूप से परंपरागत ढंग से स्वागत किया। इस अवसर पर रामविलास, रघुनाथ साहू, महावीर साहू, उपेंद्र साहू उपस्थिति थे।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने