देशी शराब दुकान के लूट मामले में पुलिस ने 5 आरोपियों को चंद घंटे में किया गिरफ्तार, तिजोरी तालाब से बरामद

 


आरोपियों में एक नाबालिग भी शामिल 

आईजी ने  टीम को 25000, एसपी ने दस हजार देने की घोषणा की


पवन निषाद

मगरलोड।धमतरी जिले के मगरलोड के  देशी शराब दुकान में हुए लूट के मामले में मगरलोड पुलिस ने 24 घण्टे के अंदर आरोपियों को धर दबोचा है। मामले में पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। जिसमें एक नाबालिग है । ग्राम चारभाठा के चार  और ग्राम बोडरा से एक युवक शामिल है।  तिजोरी में रखे 5 लाख 81 हजार रुपये सही सलामत मिला। इस कार्रवाई पर आईजी ने 25000 और एसपी ने 10,000 देने की घोषणा की।

एसपी बीपी राजभानू ने थाना परिसर मामले का खुलासा करते हुए बताया कि  1 फरवरी सोमवार की मध्य रात्रि 1 से 1.30 बजे के बीच मगरलोड के देशी शराब दुकान में अज्ञात लोगों ने शराब दुकान  के दो गार्ड को बंधक बनाकर दुकान का ताला तोड़कर अंदर प्रवेश किये । तिजोरी में रखे रुपये को निकलने बहुत कोशिश की गई पर तिजोरी नहीं खुला तो तिजोरी अपने साथ ले गए। गार्ड ने घटना की जानकारी पुलिस थाना को दी थी। तत्काल पुलिस के आने से पहले वे भाग गए। सुबह घटना स्थल में जिले के उच्च आलाधिकारी पहुँचे ।लूटेरों को पकड़ने डाग स्क्वायड,फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट, सायबर सेल की मदद लेकर सबूत इक्कठा करने में लग गए।आखिरकार पुलिस ने लुटेरों को ढूढ़ निकाला ,रुपयों से भरे तिजोरी को शीतला तालाब से बरामद किया गया।

घटना को अंजाम देने योजना बनाई 

आरोपियों ने पुलिस को बताया कि लूट की घटना को अंजाम देने के लिए वे लोग 15 दिनों से  योजना बनाई थी और 1 फरवरी की रात्रि को चुना। उन्हें पता था कि शराब दुकान में कितनी रकम रखी गई है और यहां की सुरक्षा व्यवस्था कैसी है

पुलिस आरोपी तक  कैसे पहुँचे

घटना के बाद पुलिस सतर्क हो गई उन्होंने आसपास के चोरों पर नजर बनाई। साथ ही शराब भट्टी के पास का टावर लोकेशन से जांच की गई साथ ही मुखबिर के जरिय से थाना क्षेत्र ग्राम चारभाठा के गजानंद वर्मा से थाना लाकर कड़ाई से पूछताछ करने पर लूट की घटना को स्वीकार किया। अपने साथी से मिलकर घटना की अंजाम दिया।

लूट का मास्टरमाइंड 

पूरे लूट का मास्टरमाइंड  गजानंद वर्मा पिता पुररूराम ललित महानंद थे । घटना को अंजाम देने के लिए  ,करण वर्मा पिता पुररू राम ,याजेन्द्र साहू पिता खिलावन साहू ग्राम बोडरा  व नाबालिग बालक को ग्रुप में शामिल किया था।आरोपी गजानंद वर्मा पूर्व  शराब दुकान में काम कर चुके है ।इसको पूरा पता था कि शराब दुकान में बिक्री की रकम कब- कब रखा जाता है। सभी आरोपी घटना को अंजाम देने पैदल शराब दुकान तक आये थे।

तिजोरी को तोड़ नहीं पाए तो तालाब में छिपा दिया

शराब दुकान से तिरोजी उठा लाने के बाद तोड़ने की बहुत कोशिश की गई पर तिजोरी नहीं टूटा। शराब दुकान के पीछे शीतला तालाब में छिपा कर घर वापस चले गए। जिसमें रखे पैसे 5,81,000 रु सलामत मिला।


आरोपियों के खिलाफ धारा 392,427,458 आईपीसी धारा अपराध दर्ज किया गया है। इस कार्यवाही में कुरूद एसडीओपी सारिका वैद्य,टीआई विनोद कतलम,प्रणाली वैद्य, उमेंद्र टंडन,साइबर सेल प्रभारी नरेश बंजारे ,एसआई सुभाष लाल,एएसआई प्रकाश सोनी,दक्ष साहू,प्रधान आरक्षक विजय पति,पूरन साहू,मेघराज निषाद,पवन चंद्राकर,खिनेश साहू,आरक्षक वीरेन्द्र सोनकर,परमानंद साहू,हरिशंकर डहरिया, बाबूलाल मरकाम,कुणाल साहू, जवाहर साहू,शुकलाल मरकाम,गोकुल सिन्हा,मनोज सिन्हा,नागेश्वर यदु,ओमप्रकाश जांगड़े एवं सायबर सेल टीम का योगदान रहा। प्रेस वार्ता में नपं अध्यक्ष प्रतिनिधि  खिलावन साहू,पार्षद देवेंद्र साहू,बिसून साहू,कमलेश बंजारे, महमूद खान,बिसहत राम साहू उपस्थित रहे।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने