ऑनलाइन ठगी मामले में पुलिस को मिली सफलता, दिल्ली से लाया गया आरोपी


धमतरी/नगरी। प्रार्थी बिशाली राम ध्रुव पिता इतवारी राम ध्रुव निवासी चुरियारा डीहीपारा नगरी ने थाना नगरी में रिपोर्ट दर्ज कराई कि अज्ञात ने फोन के माध्यम से डेबिट कार्ड की वैलिडिटी बढ़ाने एवं एटीएम कार्ड बंद हो जाने का झांसा देकर डेबिट कार्ड एवं बैंक की गोपनीय जानकारी व ओटीपी लेकर ऑनलाइन 122500रु आहरण कर धोखाधड़ी की है।  रिपोर्ट पर थाना नगरी में अज्ञात आरोपी के विरुद्ध धारा 420 भादवि एवं 66डी आईटी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

          पुलिस अनुविभागीय अधिकारी नीतिश ठाकुर के दिशा निर्देश में विवेचना क्रम में संबंधित बैंक से जानकारी प्राप्त करने पर पाया गया कि अज्ञात आरोपी द्वारा ऑनलाइन ठगी करते हुए प्रार्थी के खाते से एक्सिस बैंक के दो खाता एवं एसबीआई बैंक के एक खाता में राशि ऑनलाइन ट्रांसफर किया गया है। साथ ही अनुसंधान के दौरान साइबर सेल से तकनीकी साक्ष्य एकत्रित किया गया। उपलब्ध साक्ष्यों को बारीकी से विश्लेषण करने पर आरोपी दिल्ली का निवासी होना ज्ञात हुआ।

पुलिस अधीक्षक द्वारा उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर थाना प्रभारी नगरी विनय पम्मार के नेतृत्व में टीम गठित कर आरोपी की पता तलाश व वैधानिक कार्यवाही हेतु दिल्ली रवाना किया गया। उक्त टीम ने संदेही आरोपी राहुल शर्मा पिता मुकेश शर्मा उम्र 30 वर्ष निवासी Y-783 गली नंबर 13, प्रेम नगर 02, आदर्श एनक्लेव थाना प्रेम नगर दिल्ली के घर में दबिश दी। आरोपी राहुल के मिलने पर अभिरक्षा में लेकर कड़ाई से पूछताछ किया गया। पूछताछ में उसने झांसा देते हुए ऑनलाइन ठगी कर राशि को अन्य बैंक खाता में ट्रांसफर करना स्वीकार किया।

            विवेचना क्रम में प्रार्थी का मेमोरेंडम कथन लेकर उसके कब्जे से घटना में प्रयुक्त मोबाइल एवं एटीएम कार्ड बरामद किया गया तथा आरोपी को विधिवत गिरफ्तार कर ट्रांजिस्ट रिमांड पर दिल्ली से धमतरी लाया गया है। प्रकरण में वैधानिक कार्यवाही उपरांत आरोपी राहुल शर्मा को न्यायिक रिमांड हेतु न्यायालय के समक्ष पेश किया गया।

 कार्यवाही में थाना प्रभारी निरीक्षक विनय कुमार पम्मार के नेतृत्व में प्रआर रामकृष्ण साहू, आर शंकर दयाल त्रिपाठी, आनंद कटकवार एवं योगेश ध्रुव शामिल रहे। ज्ञात हो कि ऐसे लाखों के ऑनलाइन ठगी के मामले लगभग हर थाना में पेंडिंग है यदि इसी तरह सभी थाना प्रभारी संज्ञान में लेकर कार्यवाही करें तो आरोपियों को पकड़ा जा सकता है।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने