Video:युवक की मिली क्षत-विक्षत लाश,जांच के बाद पता चलेगा मौत कैसे हुई

 


ग्रामीण और परिजनों ने कहा, हाथी के कुचलने से हुई मौत


भूपेंद्र साहू

धमतरी। रूद्री थाना क्षेत्र के अंतर्गत सोरम, खिड़कीटोला रोड में कारी देवता स्थल के पास एक छिन्न भिन्न लाश मिली। वहीं पर एक बाइक भी गिरा हुआ पाया गया। सूचना मिलने पर रूद्री पुलिस मौके पर पहुंची तो पाया कि लाश  टुकड़ों में अलग अलग जगहफैला हुआ है जिसे इकट्ठा कर पंचनामा के बाद शव को रक्तदान एम्बुलेंस से पोस्टमार्टम के लिए रायपुर भेज दिया गया। सूचना मिलते ही डीएफओ सतोविशा समाजदार, एसडीएम मनीष मिश्रा, डीएसपी सारिका वैद्य मौके पर पहुंचे। डीएफओ के हाथी के कुचलने से मौत की इंकार के बाद ग्रामीण आक्रोशित नजर आए।

गुरूवार की सुबह भटगांव से खिड़कीटोला मार्ग में मॉर्निंग वॉक के लिए निकले लोगों ने देखा कि सोरम के कारी देवता स्थल के पास एक बाइक गिरा पड़ा हुआ है और वहीं पर कुछ मांस के लोथड़ा भी दिखाई दे रहे है। हाथी द्वारा कुचल कर मारे जाने की आशंका जाहिर करते हुए इसकी सूचना वन विभाग को दी गई। वन विभाग के रेंजर महादेव कन्नौजे ने लाश मिलने की सूचना रूद्री टीआई युगल किशोर नाग और अपने डीएफओ को दी। सूचना मिलने पर टीआई पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो बाइक के पास शव के कुछ टुकड़े दिखाई दिए। आसपास जब सर्चिंग की गई तो 2-3 जगहों में 50 से 100 मीटर के दायरे में शव के अलग-अलग टुकड़े पाए गए। जिसे ग्रामीणों की मदद से एकत्रित किया गया। वहां पर देखा गया कि कुछ जगहों पर घसीटने के निशान थे। खबर फैलते ही  वहां पर भीड़ एकत्रित हो गई। लोग हाथी के कुचलने से ही मौत की आशंका जाहिर करने लगे। इस बीच कलेक्टर को इसकी सूचना मिली। उन्होंने जांच के लिए एसडीएम मनीष मिश्रा को भेजा। तहसीलदार पवन ठाकुर और अन्य कर्मचारियों के साथ मौके का मुआयना कर एसडीएम ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है।

बाइक से हुई पहचान

ग्रामीणों ने जब बाइक को वहां पर गिरा हुआ पाया तो इसकी सूचना आसपास दी गई। तब शव की पहचान विश्रामपुर निवासी संजू मंडावी 40 वर्ष पिता रामाधार मंडावी के रूप में हुई, जो मजदूरी का काम करता था। बुधवार शाम वह घर लौट रहा था।


ग्रामीणों की आशंका, हाथी के कुचलने से हुई मौत

चूंकि चंदा हाथियों का दल उस क्षेत्र में है इस वजह से  ग्रामीण  हाथियों से मौत की आशंका जता रहे हैं ।ग्रामीण कौशल सिन्हा, मनीष गजेन्द्र, परमात्मा ध्रुव, मृतक के पिता रामाधार मंडावी सहित अन्य ग्रामीणों ने  बताया कि इस क्षेत्र में हाथी का दल पहुंच चुका है। यह घटना हाथी के कुचलने से ही हुई है। कई जगह घसीटने के निशान हैं। हाथी पांव के निशान हैं और कुछ ही मीटर दूर पर हाथी का जमावड़ा है। सोरम के पूर्व सरपंच नरेश यादव ने कहा कि आसपास हाथी के आ जाने से दहशत है। संजू को हाथी ने ही कुचला है, यह मर्डर नहीं है। 

आक्रोशित हुए ग्रामीण

सूचना मिलने पर डीएफओ सतोविशा समाजदार मौके पर पहुंची। शव, पैरों के निशान, घसीटने की जगह को देखने के बाद उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि हाथी इस प्रकार से किसी के साथ घटना नहीं करता है। बालोद और गरियाबंद में जो हाथी दल द्वारा दो लोगों की मारे जाने की जो घटना घटित हुई है, उसमें पैर से कुचलने के निशान थे। कोई भी शव इतना क्षत-विक्षत दूर दूर तक नहीं फैला रहता है। इस बीच ग्रामीण वन विभाग के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। ग्रामीण वाहन को चारों तरफ से घेरकर डीएफओ का स्टेटमेंट चाहते थे। बीटगार्ड श्री तिवारी को ग्रामीण सामने लाने और उस पर कार्यवाही मांग कर रहे थे।  डीएफओ बाहर निकली और ग्रामीणों का सामना करते हुए उन्होंने अपनी बात रखी।

फोटो एक्सपर्ट को भेजे गए है 

डीएफओ ने ग्रामीणों से चर्चा करते हुए बताया कि यदि हाथी किसी क्षेत्र में पहुंचता है तो वहां पर मल और पद चिन्ह जरूर मिलता है। यहां पर मल भी नहीं है, पद चिन्ह भी नहीं है। इस हाथी के झुंड में कोई दतेल नहीं है। याने किसी हाथी के पास कोई धारदार वस्तु नहीं है जिससे ऐसी घटना घटित हो सके। जिससे हड्डी भी बाहर आ जाए। फोटोग्राफस को लेकर एक्सपर्ट को भेजा जा रहा है। यदि एक्सपर्ट लिखित में दे दें कि जिस हाथी का दांत नहीं है, वह भी ऐसी घटना को अंजाम दे सकते हैं तो विभाग मानने के लिए तैयार है। डीएफओ ने लोगों के आक्रोश का डटकर सामना किया और वे उस जगह से नहीं हटीं।वन विभाग के प्रतिनिधि के रूप में वह वहीं पर ग्रामीणों के बीच डटी रहीं क्या कहा DFO ने-

ग्रामीणों की मांग पर डीएफओ ने आश्वस्त किया है कि हाथी दल के इस क्षेत्र में रहने तक क्षेत्र के विद्यार्थियों को वन विभाग के गजराज वाहन से भटगांव-धमतरी तक लाना ले-जाना किया जाएगा। वाहन में किसी के पालक भी मौजूद रहेंगे। 

पुष्टि होने पर मिलेगा मुआवजा

कलेक्टर जेपी मौर्य ने विशेषज्ञ चिकित्सकों के दल को अपनी रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं तथा क्षत-विक्षित लाश को फॉरेंसिक लैब में भेजकर जांच कराने के बाद ही किसी तरह के निर्णय पर पहुंचने की बात कही है। उन्होंने यह भी कहा है कि यदि जांच रिपोर्ट में जंगली हाथी द्वारा व्यक्ति के मृत होने की पुष्टि होती है, तो नियमानुसार जल्द से जल्द मुआवजा भी जरूर दिया जाएगा।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने