आम जनता को साइबर अपराधों से बचाव हेतु जागरूक करने के उद्देश्य से मधुबन मेला में जन जागरूकता कार्यक्रम

 




 महिला पुलिस अधिकारी कर्मचारियों ने साइबर ठगी, महिला एवं बच्चों से संबंधित अपराधियों से बचने दी समझाइश



 धमतरी। वर्तमान में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष (ऑनलाइन) रूप से ठगी का शिकार आम जनता हो रही है। ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों में ठग नए-नए तरीकों से झांसा देकर लोगों का अपना शिकार बना रहे हैं। इन साइबर ठगों से बचने के लिए स्वयं का जागरूक होना अति आवश्यक है।


         इन्ही ऑनलाइन ठगों के साथ-साथ महिलाओं एवं बच्चों पर घटित अपराधों एवं उससे बचाव व सहयोग हेतु आम जनता को जागरूक करने के उद्देश्य से पुलिस अधीक्षक  बीपी राजभानु द्वारा सामुदायिक पुलिसिंग के तहत विभिन्न स्थानों पर जन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने निर्देशित किया गया।


  अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे एवं उप पुलिस अधीक्षक सारिका वैद्य के नेतृत्व में हाल ही में संपन्न सात दिवसीय जन जागरूकता कार्यक्रम अभिव्यक्ति नारी के सम्मान की में महिलाओं एवं बच्चों से संबंधित अपराध एवं उससे बचाव व सहयोग हेतु समझाइश दी गई। समय-समय पर सामुदायिक पुलिसिंग के तहत आम नागरिकों को साइबर/ऑनलाइन ठगी से बचाव हेतु जागरूक करने के उद्देश्य से जन जागरूकता कार्यक्रम शहर के विभिन्न वार्डों, कॉलोनी एवं ग्रामीण अंचलों में साप्ताहिक बाजार, मड़ाई मेला आदि में जन जागरूकता कार्यक्रम लगातार चलाया जा रहा है।

        इसी क्रम में थाना मगरलोड स्टाफ एवं शक्ति स्क्वाड द्वारा मधुबन मेला में घूमने आए लोगों को साइबर क्राइम, ऑनलाइन फ्रॉड जैसे- टावर लगाने के नाम पर ठगी, नौकरी लगाने के नाम पर ठगी, फौजी बनकर ठगी, इनाम जीतने या लॉटरी के नाम पर ठगी, इंस्योरेंस कंपनी के नाम पर ठगी, फर्जी फोन कॉल, कम ब्याज में लोन दिलाने के नाम पर ठगी के बारे में बताते हुए फेसबुक मैसेंजर या अन्य मैसेजिंग एप में आए अनजान लिंक को क्लिक नहीं करने तथा सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क व साइबर कैफे से बचने, मोबाइल एप्लीकेशन, वेबसाइट आदि के इस्तेमाल ऑनलाइन करते समय जागरूक होने समझाइश दी गई। ऑनलाइन ठगी का शिकार होने की स्थिति में अविलंब अपने बैंक व नजदीकी थाना को सूचित करने समझाइश दी गई। उन्हें जन जागरूकता संबंधी पाम्पलेट भी वितरित किया गया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने