जलप्रपात नरहरा धाम में बढ़ेंगी सुविधाएं

सुराजी गांव योजना को मूर्तरूप देने कलेक्टर ने किया गांवों का दौरा, लगाई चैपाल


धमतरी,प्रदेश शासन की सर्वाधिक महत्वपूर्ण सुराजी गांव योजनांतर्गत नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी के विकास व विस्तार करने के दृष्टिकोण से कलेक्टर रजत बंसल ने आज नगरी विकासखण्ड के विभिन्न ग्रामों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने इन गांवों में ग्रामीणों की आवश्यकता के अनुरूप योजना को मूर्तरूप देने के लिए सम्भावनाएं भी तलाशीं।कलेक्टर ने नगरी की ग्राम पंचायत झूरातराई से पांच किलोमीटर की दूर पर प्राकृतिक जलप्रपात नरहरा धाम का निरीक्षण किया। पर्यटन की दृष्टि यहां पर सुविधाएं विकसित करने के उद्देश्य से कलेक्टर ने उक्त जलप्रपात तक पहुंच मार्ग आसान बनाने सड़क निर्माण के लिए जल संसाधन विभाग कोड-90 के कार्यपालन अभियंता को निर्देशित किया। इसी तरह उक्त झरने में बारहमासी पानी का ठहराव रहे, इसके लिए नरवा कार्यक्रम अंतर्गत बारिश के जल का संग्रहण एवं संचयन करने व आसपास के जंगल व गांवों में उसकी उपयोगिता के लिए कार्ययोजना तैयार करने के भी निर्देश दिए। साथ ही पहंुचमार्ग एवं जलप्रपात के स्पाॅट पर सोलर लाइट स्थापित करने के लिए कार्यपालन अभियंता को निर्देशित किया।


इसके पहले ग्राम छिंदभर्री, चनागांव में ग्रामीणों के बीच चैपाल लगाकर उनकी प्राथमिक जरूरतों व समस्याओं पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने घुरवा को सुव्यवस्थित ढंग से तैयार करने ग्रामीणों के घर जाकर उनके व्यक्तिगत बाॅयोगैस संयंत्र का निरीक्षण किया, जिसके बाद उन्होंने अलग-अलग निजी संयंत्रों के स्थान पर सामूहिक संयंत्र स्थापित करने के संबंध में क्रेडा विभाग के अधिकारी को आवश्यक कार्रवाई करने निर्देशित किया। इससे गोबर खाद का पर्याप्त मात्रा में सामूहिक निर्माण किया जा सकेगा। ग्राम के सरपंच ने बताया कि गांव में 1500 से अधिक पशुधन हैं। इस पर कलेक्टर ने वहां पर अतिक्रमण किए गए शासकीय भूभाग का चिन्हांकन कर उसे अतिक्रमणमुक्त करने एसडीएम नगरी को निर्देश दिए। इस दौरान कलेक्टर ने छिंदभर्री के आंगनबाड़ी केन्द्र का निरीक्षण किया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने बताया कि आंगनबाड़ी का खुद का भवन नहीं है, जिस पर कलेक्टर ने निषाद समाज के सामुदायिक भवन में शिफ्ट कराने के निर्देश एसडीएम को दिए। यहां दर्ज 17 में से सभी बच्चे उपस्थित पाए गए। इस केन्द्र में दो गम्भीर कुपोषित बच्चों को बारिश के मौसम के बाद एनआरसी (लइका जतन ठउर) में दाखिल कराने पर जोर दिया। इसके अलावा उन्होंने चनागांव में निर्मित हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर का दौरा कर वहां आवश्यकतानुसार दवाओं के भण्डारण और उपलब्धता की जानकारी ली। साथ मौसमी बीमारियों से ग्रामीणों को जागरूक करने सतत् सम्पर्क में रहने के निर्देश स्वास्थ्य सहायक को दिए। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों के बीच चैपाल लगाकर उनकी विभिन्न मांगों और समस्याओं पर चर्चा भी की।उनके साथ एनआईसी प्रभारी उपेंद्र चंदेल भी मौजूद थे
 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने