अगले पांच सालों में किए जाने वाले कार्यों का विजन डाॅक्यूमेंट होगा तैयार



प्रभारी मंत्री  कवासी लखमा ने ली डी.एम.एफ. की शासी परिषद की बैठक



धमतरी, जिला खनिज न्यास संस्थान निधि से अगले पांच सालों में किये जाने वाले कार्यों का विजन डॉक्यूमेंट धमतरी जिले के लिए तैयार किया जाएगा। जिले के प्रभारी मंत्री  कवासी लखमा की अध्यक्षता में आयोजित जिला खनिज न्यास संस्थान निधि की शासी परिषद की बैठक में कैबिनट मंत्री ने सभी सदस्यों को इसके लिए 20 सितंबर तक सुझाव प्रस्तुत करने कहा। उन्होंने कहा कि इसके बाद हर साल जिन कार्यों को वर्षवार प्राथमिकता से करना है, उस पर अगली बैठक में चर्चा की जाएगी। जिला पंचायत सभाकक्ष में आयोजित शासी परिषद की बैठक में सर्व सम्मति से शासन को प्रस्ताव बनाकर भेजने का निर्णय लिया गया कि बालोद जिले को जिला खनिज न्यास संस्थान निधि से प्राप्त राशि में से धमतरी जिले को मिलने वाली केवल पांच प्रतिशत की राशि को बढ़ाकर दस प्रतिशत किया जाए, ताकि आवश्यकता अनुसार उस राशि का और सही उपयोग किया जा सके। बैठक में जिला खनिज न्यास संस्थान निधि में वर्ष 2016-17 से अब तक प्राप्त आबंटन और व्यय की वर्षवार जानकारी जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  विजय दयाराम के. ने सभा के सदस्यों के समक्ष रखी। साथ ही स्वीकृत और पूर्ण कार्यों का ब्यौरा भी सदस्यों को दिया।


इस मौके पर प्रदेश के मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल से प्राप्त निर्देश एवं प्रशासनिक कसावट लाने के लिए स्वीकृति मिलने की प्रत्याशा में किए गए कार्यों की सूची अनुमोदन हेतु बैठक रखी गई। इनमें धमतरी नगरनिगम क्षेत्र में ग्रीष्म ऋतु में संभावित पेयजल संकट निवारण के लिए वाॅटर पम्प स्थापना कार्य लागत 28 लाख 23 हजार रूपए, कलेक्टोरेट परिसर में शिशुवती कामकाजी महिलाओ के बच्चों के लिए पालनाघर लागत तीन लाख 35 हजार रूपए और नगरी में सामान्य प्रशासन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों के लिए बने आवासीय काॅलोनी में पेयजल प्रदाय के लिए नलकूप खनन और पाईप लाईन बिछाने का कार्य लागत 17 लाख 30 हजार रूपए शामिल है। शासी परिषद् में इसे सर्व सम्मति से पारित किया गया।
इस अवसर पर कलेक्टर रजत बंसल ने जिला खनिज न्यास संस्थान निधि के संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों की जानकारी परिषद के समक्ष प्रस्तुत की तथा किए जाने वाले कार्यों के लिए तय उच्च प्राथमिकता तथा अन्य प्राथमिकता की विस्तृत जानकारी भी दी। बताया गया कि उच्च प्राथमिकता वाले कार्यों में 60 प्रतिशत राशि का उपयोग किया जाना है, जिसमें पेयजल आपूर्ति, स्वास्थ्य, शिक्षा, महिला एवं बाल कल्याण, कृषि एवं संबद्ध गतिविधियां, वृद्ध एवं निःशक्त कल्याण, कौशल विकास एवं रोजगार, स्वच्छता जनकल्याण, पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण निवारण उपाय संबंधी कार्य शामिल हैं। अन्य प्राथमिकता जैसे भौतिक अधोसंरचना, सिंचाई, ऊर्जा एवं जल विभाजन विकास, राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर निर्देशित कोई अन्य अधोसंरचना संबंधी कार्य के लिए जिला खनिज न्यास संस्थान निधि से 40 प्रतिशत राशि का उपयोग किया जाना है। इस आधार पर अगले पांच साल के लिए तैयार किए जाने वाले विजन डॅाक्यूमेंट के लिए एक इच्छा सूची भी परिषद् के समक्ष रखी गई।
बैठक में प्रभारी मंत्री श्री लखमा ने जिले में चल रहे निर्माण कार्यों में गति लाने के निर्देश भी विभागीय अधिकारियों को दिए। उन्होंने इस मौके पर राज्य सरकार की मंशा अनुरूप कमार जनजाति के बारहवीं पास युवाओं को आवेदन प्रस्तुत करने पर यथासंभव सहायक शिक्षक बनाने के लिए भी कहा। बैठक में विधायक धमतरी रंजना साहू, विधायक नगरी डाॅ.लक्ष्मी ध्रुव,पूर्व विधायक धमतरी  गुरूमुख सिंह होरा, मोहन लालवानी, जिला पंचायत सदस्य नीशु चन्द्राकर,विधायक कुरूद अजय चन्द्राकर के प्रतिनिधि  प्रवीण चन्द्राकर, सहित अन्य सदस्य एवं अधिकारी उपस्थित रहे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने