जय कन्हैया लाल की... के स्वर गुंजायमान रहे



नंद के आनंद भए जय कन्हैया लाल की...

 प्रमेंद्र अस्थाना
वृंदावन। योगिराज भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। मंदिरों और सड़कों पर नंद के आनंद भए जय कन्हैया लाल की... के स्वर गुंजायमान हो रहे थे। शनिवार को ठा. राधारमण, ठा. राधादामोदर, शाहजी मंदिर समेत श्रीकृष्ण बलराम इस्कॉन मंदिर में जन्माष्टमी महोत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया।


नगर के सप्तदेवालयों में प्रमुख ठा. राधारमण मंदिर, ठा. राधादामोदर मंदिर, राधागोपीनाथ, राधामदनमोहन, राधागोकुलानंद समेत शाहजी मंदिर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर सुबह-सुबह घंटे घड़ियाल और शंखनाद के मध्य ठाकुरजी की विग्रह का मनों दूध, दही, घी, बूरा, शहद और जड़ी बूटियों से महाभिषेक किया गया। ठाकुरजी के महाभिषेक के नयनाभिराम दर्शन के लिए मंदिरों में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। हर कोई अपने आराध्य के दर्शन के लिए लालायित नजर आ रहा था। मंदिर के सेवायतों द्वारा जब वेदमंत्रोच्चारण के मध्य ठाकुर जी का अभिषेक किया जा रहा था तो भक्त नंद के आनंद भए जय कन्हैया लाल की... के जयकार लगा खुशी में झूम रहे थे।

वहीं श्रीकृष्ण बलराम इस्कॉन मंदिर के रंगबिरंगी रोशनी में झिलमिलाते परिसर में देशी-विदेशी भक्त नंदलाला के जन्म के दर्शन कर अपने आप को धन्य अनुभव कर रहे थे। इससे पूर्व शाम के समय मंदिर के आंगन में सजाए गए मंच पर मंदिर प्रबंध समिति के पदाधिकारियों समेत विदेशी भक्तों द्वारा मुख्य पुजारी के सानिध्य में वेदमंत्रोच्चारण एवं हरिनाम संकीर्तन की धुन के साथ श्रीकृष्ण का पंचामृत एवं जड़ी बूटियों से महाभिषेक किया गया। मध्य रात्रि में ठाकुरजी की श्रंगार आरती के दर्शन के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। पूरा मंदिर परिसर भगवान के जयकारों से गूंज रहा था।


जगह-जगह लगा जाम
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के वाहनों के कारण पूरे नगर में  प्रमुख सड़कों पर जाम की स्थिति बनी रही। छटीकरा रोड, सौ फुटा रोड, इस्कॉन मंदिर, फोगला आश्रम, हरीनिकुंज,  विद्यापीठ चौराहा जाम के झाम से बेहाल थे। वहीं मथुरा मार्ग पर अटल्ला चुंगी तथा पानीगांव पुल पर यमुना एक्सप्रेस वे से आने वाले वाहनों की लंबी कतार लगी रहीं।

लाला के दर्शनों को पैदल चले श्रद्धालु
बाहर से आने वाले वाहनों को शहर से बाहर बनाए गए पार्किंग स्थलों पर पार्क कराए जाने के कारण श्रद्धालुओं को पैदल ही मंदिर तक पहुंचना पड़ा।

टैम्पो और ई-रिक्शा चालकों ने खूब वसूला किराया
श्रद्धालुओं के सैलाब को देखकर टैम्पो और ई-रिक्शा चालकों ने खूब मनमाना किराया बसूला। मथुरा जंक्शन से वृंदावन तक 50 रुपये प्रति सवारी के हिसाब से किराया वसूला। वहीं ई-रिक्शा चालकों ने बांके बिहारी मंदिर तक पहुंचाने के नाम पर अटल्ला चुंगी से विद्यापीठ चौराहा तक के पचास रुपये और प्रेम मंदिर और सौ फुटा से हरिनिकुंज चौराहा तक के 50-60 रुपये प्रति सवारी तक किराया वसूला।
.

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने