सीएम ने जब आश्रम के विद्यार्थियों के साथ जमीन पर बैठकर चखा भोजन...


तीरंदाजी प्रशिक्षण के दौरान मुख्यमंत्री धनुष पर तीर का संधान कर साधा निशाना
 


धमतरी,  स्वर्गीय राजीव गांधी की 75वें जन्म दिवस के अवसर पर नगरी विकासखण्ड के ग्राम दुगली में आयोजित ग्राम सुराज एवं वनाधिकार मड़ई तथा सद्भावना दिवस कार्यक्रम में आज प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आदिम जाति विकास विभाग द्वारा संचालित शासकीय बालक आश्रम का घूमकर अवलोकन किया। यहां अध्ययनरत विद्यार्थियों ने उनका स्वागत गुलाब फूल भेंट कर किया। इस दौरान बताया गया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के द्वारा 14 जुलाई 1985 को दुगली प्रवास के दौरान इसका अवलोकन किया गया। यह आश्रम भी उसी साल से संचालित है, जो कि जिले का सर्वप्रथम आवासीय आश्रम है। इसके उपरांत मुख्यमंत्री एवं अन्य वरिष्ठ मंत्रियों व अतिथियों ने आश्रम के विद्यार्थियों के साथ जमीन पर बैठकर भोजन किया। मुख्यमंत्री को अपने बीच पाकर तथा उनके साथ आम आदमी की भांति सहज ढंग से जमीन पर बैठकर भोजन ग्रहण करने पर विद्यार्थी गद्गद् हो गए। मध्याह्न भोजन के तौर पर मुख्यमंत्री एवं अन्य अतिथियों को दाल, चावल, रोटी के अलावा खेक्सी, आलू-बरबट्टी, लौकी की सब्जी परोसी गई। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कक्षा चैथी के रौशन कमार, रविशंकर कमार तथा सूरज कमार से पूछा कि रोज ऐसा ही भोजन मिलता है, जिस पर बच्चों ने उत्तर दिया कि यहां प्रतिदिन मीनू के अनुसार स्वादिष्ट भोजन परोसा जाता है। खाना खाते समय उन्होंने बच्चों से उनके लक्ष्य के बारे में भी पूछा, तो किसी ने शिक्षक, किसी ने डाॅक्टर और किसी ने इंजीनियर बनने की इच्छा प्रकट की। भोजन कक्ष में मुख्यमंत्री के साथ राज्यसभा सांसद पी.एल. पुनिया, प्रदेश के ग्रामीण विकास एवं स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, जिले के प्रभारी मंत्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम सहित सिहावा विधायक डाॅ. लक्ष्मी ध्रुव, पूर्व मंत्री  माधव सिंह ध्रुव, पूर्व विधायक द्वय  लेखराम साहू, हर्षद मेहता व कलेक्टर रजत बंसल ने भी जमीन पर बैठकर मध्यान्ह भोजन किया। मुख्यमंत्री के साथ बैठकर भोजन ग्रहण करने वाले विद्यार्थियों में कक्षा चैथी के भावेन्द्र, रौशन, पांचवीं के जयकुमार, रविशंकर, नवेन्द्र, इशांत, उमेन्द्र, कक्षा सातवीं के सूरज, त्रयम्बक, ओमप्रकाश, गुलशन, कक्षा आठवीं के विद्यार्थी सितेन्द्र, डिगेश शामिल थे।



इसके पहले दुगली स्थित आदिम जाति बालक छात्रावास में विशेष पिछड़ी जनजाति कमार विद्यार्थियों को दिए जा रहे तीरंदाजी (आर्चरी) के प्रशिक्षण का अवलोकन किया। इस दौरान उन्होंने आर्चरी की कमान पर तीर चढ़ाकर टारगेट पर निशाना साधा। उनके साथ-साथ प्रदेश के केबिनेट मंत्री टी.एस. सिंहदेव तथा मोहन मरकाम ने भी तीरंदाजी करते हुए सटीक निशाना साधा। इस दौरान मुख्यमंत्री श्री बघेल ने प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे कमार विद्यार्थियों से चर्चा करते हुए उनकी इस पारम्परिक कला को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए पूरे लगन के साथ भरपूर मेहनत करने की शुभकामनाएं दीं।

मुख्यमंत्री बघेल इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की 75 वीं जयंती के अवसर पर दुगली में स्थापित उनकी आदम कद प्रतिमा का अनावरण किया,भूपेश बघेल ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की 75 वीं जयंती पर हम सब उन्हें नमन करते हैं। समावेशी विकास की दूरदर्शिता, पंचायती राज, संचार क्रांति एवं युवाओं को मतदान का अधिकार जैसे योगदान आज 21 वीं सदी में आकार लेकर देश को राजीव जी की याद दिलाते हैं।



मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज धमतरी जिले के नगरी विकासखण्ड के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र दुगली में लइका जतन ठउर का उद्घाटन किया। दुगली सेक्टर को कुपोषण मुक्त करने पोषण पुनर्वास केन्द्र की तर्ज पर स्थापित इस अभिनव लइका जतन ठउर में कुपोषित बच्चों का संपूर्ण उपचार और चिकित्सीय देखभाल की जाएगी। यहां बच्चों के लिए 10 बिस्तरों की व्यवस्था है। 18 प्रतिशत कुपोषण दर वाले दुगली सेक्टर के 45 गांवों को अगले एक वर्ष में कुपोषण मुक्त करने का लक्ष्य है। नवनिर्मित लइका जतन ठउर में इलाजरत बच्चों और उनकी माताओं से मिले तथा उन्हें फल, रेडी-टू-ईट पोषाहार, कपड़े और हैंडवाश वितरित किए। 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने