शौर्य इंद्रधनुष योजना: कौशल नेताम सम्मानित

बच्ची के परिजनों को ढूंढ कर उसके घर तक  पहुंचाया था  बालोद

 

भूपेंद्र साहू 
धमतरी, पुलिस विभाग में उत्कृष्ट कार्य करने वाले आरक्षकों को  शौर्य इंद्रधनुष योजना के तहत पुरस्कृत किया जाता है  ।इसमें धमतरी का ट्रैफिक जवान भी शामिल हुआ जिसने एक बच्ची के परिजनों को ढूंढ कर उसके घर तक बालोद पहुंचाया था ।धमतरी यातायात से आर. कौशल नेताम  क्रमांक 305 को उनके द्वारा किये गए उत्कृष्ट कार्य के लिए आज रायपुर में आयोजित शौर्य इंद्रधनुष योजना सम्मान से डीजीपी अवस्थी के द्वारा सम्मानित किया गया।

घटना कुछ इस प्रकार है 14 जुलाई को लगभग 4 बजे के आस पास  नया बस स्टैंड में ड्यूटी पर तैनात आर.305 कौशल नेताम को ड्यूटी के दौरान बस स्टैंड में  लगभग 3,4 वर्षीय एक छोटी सी बच्ची रोते बिलखते घूम रही थी जिस पर आर.कौशल नेताम का नजर पढ़ते ही उसे गोद मे उठाकर प्यार से बात चीत कर उसका नाम पूछने में सफल हुए उस बच्ची ने अपना नाम ऊर्वशी मरकाम बताई फिर उसके पिता जी का नाम गांव पूछने पर पापा का नाम ढालसिंग मरकाम बताया बालोद बालोद करके बोलती रही जगह स्प्ष्ट नही बता पाए फिर कौशल नेताम ने अपनी सूझ बूझ दिखाते हुए उस बच्ची को नास्ता करवाया फिर  गोद मे उठाकर पूरा बस स्टैंड  में घूम घूम कर उसके पालक का पतासाजी करने में जुट गया लगभग 1 घण्टे की मसक्कत के बाद उन्होंने बच्ची के परिजन को तलाश कर के उस नन्ही सी बच्ची को उसके मा एवं पापा को सकुशल सुरक्षित वापस लौटाया।
पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने शनिवार पुलिस ट्रांजिट हॉस्टल के सभा कक्ष में इन्द्रधुनष योजना के तहत प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए 60 पुलिस अधिकारियों को प्रशंसा पत्र प्रदान कर सम्मानित किया. पुलिस महानिदेशक अवस्थी ने अपने सम्बोधन में कहा कि पुलिस के लिए बिना पुरस्कार प्राप्ति की आशा से किया गया कार्य प्रशंसनीय है.छत्तीसगढ़ पुलिस के ऐसे अधिकारी-कर्मचारी जिन्होंने अपने अदम्य साहस और जोखिम उठाकर उत्कृष्ट कार्य कुशलता से अपनी जिम्मेदारियों का निवर्हन किया है, उन्हें सम्मानित करते हुए गर्व हो रहा है. उन्होंने आशा व्यक्त किया कि प्रदेश के अन्य पुलिस अधिकारी-कर्मचारी इससे प्रेरणा लेकर अपने-अपने क्षेत्रों में अच्छा कार्य करेंगे.अवस्थी ने बताया कि इन्द्रधनुष योजना जनवरी 2019 में प्रारंभ की गई थी. इसमें आरक्षक से निरीक्षक और कम्पनी कमांडर स्तर के 32 अधिकारियों को पूर्व में सम्मानित किया जा चुका है, अब इस योजना में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक और उप सेनानी स्तर तक के अधिकारियों को भी शामिल किया गया है. अवस्थी ने राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्र बस्तर अंचल के सभी सात जिलों और राजनांदगांव जिले में कार्यरत पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों को उनके उत्कृष्ट कार्यों के लिए सम्मानित करने शौर्य इन्द्रधनुष योजना आज से प्रारंभ किए जाने की जानकारी दी.


0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने