राजिम माघी पुन्नी मेला मे भुल-भुलैया झाँकी बना आकर्षक का केेन्द्र, 7 हजार एक्सक्वेयर फीट मे बना




पवन कुमार निषाद
मगरलोड (धमतरी )। राजिम माघी पुन्नी मेला में कुलेश्वरनाथ मंदिर के पास लगी भूल-भुलैया की झाँकी आकर्षक का केन्द्र बना हुआ है। वैसे तो राजिम माघी पुन्नी मेला मनोरजंन के बहुत से चीजे हैं, जो लोगों को काफी आकर्षित कर रही है। मेला में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को यह झांकी भी आकर्षित कर रही है। कुलेश्वर मंदिर के पास लगा इस झांकी के अंदर भूल भुलैया का प्रारूप तैयार किया गया है जिसमें लोग जाते हैं रास्ता भूल कर भटक जाते है।
 
उल्लेखनीय है कि विगत 14 साल से लगातार अलग-अलग विषयो पर झाँकी का पण्डाल लगता है। इस वर्ष भूल-भुलैया की झाँकी अपनी ओर लोगो को खींच रहे है। संचालक अशोक कुमार तिवारी ने बताया कि हर वर्ष अलग-अलग झाँकी लगाते है। सबसे पहले स्वर्ग-नर्क उसके बाद हर-हर महादेव, जय महाकाल, जादू की नगरी, छोटा भीम, जगन मोहिनी, जंतर-मंतर आदि लगाये थे किन्तु इस बार संतोष तिवारी के मार्गदर्शन मे भुल-भुलैया को मुर्त रूप दिया गया है। यह 7 हजार एक्सक्वेयर फीट मे बना हुआ है। फाइबर की मुर्तियाँ है जो स्वचलित है। इन्हें निर्माण करने मे 3 लाख रूपये का खर्च आया है। प्रतिदिन 15 कर्मचारी लगे हुए है। लोगो का भरपूर स्नेह मिल रहा है।
 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने