किसानी हेतु ऋण पर प्रश्न दागा विधायक रँजना साहू ने

 

ऋण लेने की अवधि  के मामले पर मुखर हुई विधायक रँजना

 

धमतरी।ग्रीष्म कालीन फसल के लिए सहकारी समितियों के माध्यम से  किसानों को दी जाने वाली कर्ज़ की अवधि सरकार द्वारा 29 फरवरी निर्धारित की गई थी  किंतु समितियों में धान विक्रय किए जाने का समय 20 फरवरी को अंतिम हुआ कंप्यूटर के तकनीकी कारण से जो किसान द्वारा इस अंतिम अवधि में कर्ज की अदायगी की गई वाह समितियों में  दार्शित न दीखाई नहीं देने के कारण  किसानों को ऋणी कृषक  मानते हुए कर्ज देने से इनकार किया जा रहा है। जबकि इसमें किसानों की कोई गलती नहीं है उक्त बातों से क्षेत्र के विधायक रँजना डिपेन्द्र साहू को अवगत कराए जाने पर बजट सत्र के शून्यकाल में आज यह मामला उठाते हुए आसंदी से मांग की कि कर्ज देने की अवधि बढ़ाया जा कर 15 मार्च किया जाए उन्होंने कहा कि धान खरीदी के नाम पर पहले ही किसान अपने को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।
 
 वहीं दूसरी ओर  कर्ज़ की अवधि  समाप्त कर देने से ग्रीष्मकालीन फसल के लिए किसानों के समक्ष आर्थिक समस्या खड़ी हो गई है फसल अभी शिशु अवस्था में है किसानों को खाद दवाई तथा मजदूरी के लिए पैसे की आवश्यकता है ऐसे में यदि  कर्ज की उपलब्धता ना होने पर फसल को काफी नुकसान होने की संभावना है ।पहले ही ग्रीष्म काल में होने वाले धान के कीमत मैं लागत की अपेक्षा कम कीमत मिलने की संभावना है।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने