VDO: मॉक ड्रिल के बाद जालमपुर वार्ड और धमतरी के लोगों का पुलिस ने अभिवादन किया


 धमतरी । मॉक ड्रिल के बाद परिवार के साथ साथ जालमपुर वार्ड और पूरी धमतरी के सभी लोग जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इसमे सहयोग किये उनका अभिवादन भी किया गया।

  28 अप्रेल  की शाम जानकारी मिली कि जिला सूरजपुर में 09 व्यक्ति  कोरोना वायरस संक्रमण के संदिग्ध है जिनका संपर्क दीगर राज्य से आए महज एक व्यक्ति से हुआ था तथा उन मजदूरों में से एक मजदूर जशपुर भी गया था  जिसमें संक्रमण पाया गया है । अचानक मिली इस जानकारी ने सभी को हिला दिया था। ऐसी परिस्थिति में सबसे ज्यादा ध्यान देने योग्य यह बात रही कि यदि ऐसी कोई सूचना अचानक  धमतरी जिले के किसी क्षेत्र से प्राप्त हो तो अपनी संपूर्ण व्यवस्था का आकलन करना और उसे धरातल में अमल में लाया जाकर उसका आकलन किया जाना आवश्यक प्रतीत हुआ। यद्यपि ऐसी सूचना आम लोगों को टेंशन में डाल देगा किन्तु सही ढंग से सोचा जाए तो ऐसी परिस्थिति से निपटने के लिए की गई प्रशासनिक व्यवस्था को हरकत में लाते हुए अंतर विभागीय समन्वय के साथ साथ विभागीय कार्यप्रणाली के आधार पर उसका आकलन कर प्रायोगिक तौर पर परिलक्षित कमियों को दूर करने का अवसर भी मिलेगा जो न केवल विभागों के लिए बल्कि जनता के लिए भी आवश्यक है।

           इसी उद्देश्य से कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए जिला प्रशासन एवं धमतरी पुलिस द्वारा माॅक ड्रिल किया गया।  29 अप्रेल दोपहर  12 बजे स्थानीय जालमपुर वार्ड के एक व्यक्ति के फ़ोन पर कंट्रोल रूम में सूचना देने पर की उसका स्वास्थ्य खराब है मुख्य चिकित्सा एवम स्वास्थ्य अधिकारी डॉ तुर्रे की मेडिकल टीम उनके निवास पर पहुची और सूचक का आरडी टेस्ट में कोरोना संक्रमण रिपोर्ट पाजीटिव आने की जानकारी प्राप्त होने पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी  नम्रता गांधी की पूरी प्रशासनिक टीम, नगरनिगम की टीम एवम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक धमतरी मनीषा ठाकुर रावटे के नेतृत्व में पुलिस अधिकारी-कर्मचारी तत्काल हरकत में आकर प्राप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए मौके पहुचे। साथ मे समन्वय बनाते हुए संक्रमित व्यक्ति को स्वास्थ्य विभाग की सहायता से विशेष सुरक्षा घेरे में लेकर एम्बुलेंस से एम्स अस्पताल रायपुर रवाना किया गया तथा जालमपुर वार्ड को संवेदनशील क्षेत्र घोषित कर बैरिकेट्स लगाते हुए आवाजाही प्रतिबंधित कर स्थानीय लोगों को समझाइश देकर उनका घर से निकलना पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया। स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग की टीम के साथ समन्वय स्थापित कर प्रत्येक घर में उपस्थित लोगों का नाम पता लिखकर स्वास्थ्य जांच कराया गया । इसी तरह नगर निगम की टीम के द्वारा संक्रमित एरिया एवं उसके आसपास सैनिटाइजेशन किया गया। साथ ही अतिआवश्यक सामग्री भी कुछ समय के अंतराल में पहुचाई गयी।

         इस दौरान कलेक्टर रजत बंसल, पुलिस अधीक्षक बीपी राजभानू द्वारा पूरे क्षेत्र में की गई व्यवस्था का जायजा लेकर शाम 4.30 बजे मौके पर पहुंचे। इस बात से आश्वस्त हुए की उनकी पूरी टीम लगातार संपर्क बना कर आवश्यक सेवा उपलब्ध कराई। साथ ही यह स्पष्ट किये कि यह पूरी कार्रवाई गोपनीय रखते हुए माॅक ड्रिल के निष्पादित से विभागीय समन्वय बना रहा। त्वरित कार्य एवं गतिविधियों का आंकलन किया गया तथा वर्तमान स्थिति को देखते हुए यह आवश्यक था कि जिले में कभी भी आपात स्थिति निर्मित होने पर सभी विभाग से बेहतर समन्वय स्थापित कर अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कुशलता पूर्वक करने में सक्षम है।टीम धमतरी कुशल नेतृत्व के साथ और जनसहयोग के साथ हर परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है ।
 
         जालमपुर वार्ड धमतरी निवासी करीबन 1 माह पूर्व दीगर राज्य से वापस आए थे तथा उन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा होम आइसोलेशन में रखा गया था, जिनकी पुलिस व स्वास्थ्य अमले द्वारा निगरानी की जा रही थी। उक्त मॉक ड्रिल कार्रवाई के पूर्व उन्हें व उनके परिवार के सदस्यों द्वारा मॉक ड्रिल हेतु प्रशासन एवं पुलिस विभाग को सहयोग करने अपनी सहमति दी गई तथा इनकी केस हिस्ट्री मॉक ड्रिल हेतु उपयुक्त होने पर प्रशासन के सहयोग से सुनियोजित व गोपनीयता रखते हुए सुरक्षा व्यवस्था का आकलन करने हेतु मॉक ड्रिल किया गया ।

 
 पुलिस अधीक्षक धमतरी ने उन्हें एवं उनके परिवार के सदस्यों को उक्त कार्यवाही के लिए अपनी सहमति दिए जाने पर धन्यवाद ज्ञापित किया है। उक्त परिवार के साथ साथ जालमपुर वार्ड और पूरी धमतरी के सभी लोग जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इसमे सहयोग किये उनका अभिवादन भी किया गया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने