युवोदय का एक अभियान, नशा छोड़ो बनो महान- संत रविकर साहेब


खुशहाल जिंदगी हेतु नशा निषेध संकल्प ले और लोगों को प्रेरित करें

 

विश्व तंबाकू एवं धूम्रपान निषेध दिवस के अवसर पर एक संदेश

धमतरी ....✒️ नशा ने हमेशा लोगों के जीवन को बर्बाद किया है l चाहे वह तन का हो,  मन का हो,  धन का हो ।
लाखों लोगों की जिंदगी नशा से तबाह हो गया है।
नशा से धन की बर्बादी तो होती ही है लेकिन शरीर दुखों का घर बन जाता है ,मन दूषित होता है, आत्मबल कमजोर होता है, कार्य क्षमता घट जाता है, नशा का आदी व्यक्ति किसी भी क्षेत्र में सफल नहीं होता
ना खुद खुश रह सकता है और न ही परिवार को खुशी दे सकता है बल्कि नशा से एक खुशहाल परिवार की जिंदगी नर्क बन जाती है।
आज विश्व धूम्रपान निषेध दिवस के अवसर पर संत कबीर सेवा संस्थान देवपुर एवं यथार्थ फाउंडेशन धमतरी की ओर से सभी जन समुदाय तथा खासकर जो युवा वर्ग नशे में प्रवृत्त होकर अपनी जिंदगी और भविष्य खराब कर रहे हैं उन्हें हमारा निवेदन सभी प्रकार के नशा का  परित्याग करें, नशा से दूर रहे, खुद खुश रहें और भविष्य को सुनहरा बनावे आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें।स्वयं, परिवार, समाज, राष्ट्र का नाम रोशन करें।
 
साथ ही जिला प्रशासन द्वारा क्रियान्वित युवोदय अभियान से जुड़े इस अभियान का  एक कार्य नशा निषेध है जिसमें संत कबीर सेवा संस्थान देवपुर द्वारा प्रचारित नशा निषेध स्लोगन लोगों तक पहुँचाने की अपील की है-
 नशा देती है बीमारी, छीन लेती है खुशियां सारी ।
युवोदय अभियान का यही पुकार, नशा से दूर रहो मेरे यार ।
नशा से होता तन धन का नाश, जीवन में बदनामी और उपहास ।
गुटखा तंबाकू सिगरेट शराब, तन मन जीवन करे खराब।
नशा ल दूर भगाना हे, परिवार ल सुखी बनाना हे।
नशा छूटही अबकी बारी, युवोदय हे मोर संगवारी।
नशा से जागरूकता लाना हे, युवा संगी ल बचाना हे।
खुशहाल जिंदगी के हे चिन्हारी, नशा से दूर रथे संगवारी।
युवोदय एक राह है,अगर खुद को बदलने की चाहा है ।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने