राम वन गमन परिपथ के विकास लिए 14.77 करोड़ रूपए का प्रस्ताव


जिले में 16 स्थान चिन्हांकित,कलेक्टर ने  राज्य शासन को भेजा पत्र


धमतरी 06 जून 2020। प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना राम वन गमन पर्यटन परिपथ के तहत जिले में 16 स्थान चिन्हांकित किए गए हैं, जहां पर धार्मिक, पुरातात्विक, ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक धरोहरों व विरासतों के लिए आधारभूत सुविधाओं का विकास किया जाएगा। कलेक्टर  जेपी मौर्य ने राज्य शासन को पत्र लिखकर जिले में चिन्हांकित किए गए 16 स्थानों के विकास के लिए 14 करोड़ 77 लाख 20 हजार रूपए की स्वीकृति के लिए कार्ययोजना तैयार कर प्रस्ताव भेजा है।
जिले के मगरलोड, नगरी तथा धमतरी विकासखण्ड की विभिन्न ग्राम पंचायतों में कुल 16 स्थलों का चिन्हांकन किया गया है, जहां पर पहुंचमार्ग, पेयजल, विद्युत व्यवस्था, सौंदर्यीकरण, शौचालय निर्माण जैसी आधारभूत सुविधाएं विकसित की जाएंगी। कलेक्टर ने पत्र में मगरलोड विकासखण्ड की ग्राम पंचायत नवागांव (बुड़ेनी) अंतर्गत कुलेश्वर महादेव मंदिर क्षेत्र में विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए एक करोड़ 95 लाख रूपए की कार्ययोजना का प्रस्ताव प्रेषित किया है। इसी तरह मधुबन (रांकाडीह) में 45 लाख रूपए, धमतरी विकासखण्ड की ग्राम पंचायत रूद्री में रूद्रेश्वर महादेव के लिए 85 लाख रूपए, नगरी विकासखण्ड की ग्राम पंचायत सिहावा में श्रृंगि ऋषि आश्रम के लिए 65 लाख 30 हजार रूपए, ग्राम पंचायत बांसपानी (ठेमलीपारा) में कर्क ऋषि आश्रम के विकास के लिए 55 लाख 50 हजार रूपए, ग्राम पंचायत मुकुंदपुर हरदीभाठा में अगस्त्य ऋषि आश्रम क्षेत्र के लिए 53 लाख 50 हजार रूपए, ग्राम पंचायत रतावा में अंगिरा ऋषि आश्रम क्षेत्र के लिए 46 लाख 80 हजार रूपए, ग्राम पंचायत मेचका के तहत मुचकुंद ऋषि आश्रम हेतु 52 लाख 30 हजार रूपए पंचायत करही (मांदागिरी) में गौतम ऋषि आश्रम में विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए विभिन्न एक करोड़ 11 लाख 50 हजार रूपए, ग्राम पंचायत सिहावा (डोंगरीपारा) में कुम्भज ऋषि आश्रम हेतु 17 लाख 30 हजार रूपए के निर्माण कार्यों का प्रस्ताव सचिव पर्यटन विभाग छत्तीसगढ़ शासन को भेजा गया है।

इनके अतिरिक्त मगरलोड विकासखण्ड की ग्राम पंचायत बड़ी करेली, रांकाडीह, सांकरा, लुगे, राजपुर, धमतरी विकासखण्ड की ग्राम पंचायत रूद्री, मुड़पार, भोयना में मनरेगा मद से पौधरोपण एवं मंदिर पहुंच मार्ग निर्माण के लिए 7 करोड़ 50 लाख का प्रस्ताव सम्मिलित किया गया है। इस प्रकार कुल 14 करोड़ 77 लाख 20 हजार रूपए का प्रस्ताव कलेक्टर के द्वारा शासन को भेजा गया है। राम वन गमन परिपथ विकास के लिए उक्त प्रस्ताव कार्यपालन अभियंता लोक निर्माण विभाग, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना तथा ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के द्वारा संयुक्त रूप से सर्वेक्षण कर तैयार किया गया है।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने