सावन महीने की गर्मी को रचनाकार ने कुछ ऐसे पिरोया- सावन में पसीना




धमतरी। सावन माह में बारिश नहीं होने से इन दिनों लोगों को एसी और कूलर का सहारा लेना पड़ रहा है। इस उमस भरी गर्मी को रचनाकार एनआर यादव ने अपने एक कविता में कुछ इस प्रकार से पिरोया है-

सावन म पसीना

  एसो के साल कुछु ,
                     समझ नइ आवथे l
सावन म पसीना,
                     तर तर चुचवावथे l
खेत खार तरिया नदिया,
                 पानी बिना थररावथे l
 खेत के धान ह,
                   खेत म अहिलावथे l
एसो के साल कुछु,
                     समझ नइ आवथे l
 गरमी के मारे ,
                   सब होगे हलाकान l
लइका अउ सियान,
                        सबो हे परशान l
मेचका के आवाज ,
                आज ले नइ सुनावथे l
 ऐसों के साल कुछु,
                    समझ नइ आवथे l
पानी के बिना खेत म,
                      फटथ हावे दररा l
गरमी के मारे अभी तक ,
                 दिखत नइये मेछररा l
अभी तक टँगाय नइये ,
                       पटौंहा  म पररा l
 काला गोठियाबे बताबे,
                          रे टुरा ठेपररा ।
गरमी के मारे काहीं,
                     घलो नइ सुहावथे l
 ऐसो के साल कुछु,
                     समझ नइ आवथे l
 सावन म पारा ,
                       तैतीस होगे पार l
समझ नइ आवत हय,
            भगवान के काहे विचार l
नइ निकले हे बरसाती,
                  नइ निकले हे छाता l
ये का दिन देखत,
                 हावन हमन विधाता l
ये साल पुरा लागत हे,
                         बाधा ही बाधा l
कूलर के हवा ,
                     सावन में सुहावथे l
 एसो के साल कुछु ,
                     समझ नइ आवथे l
नइ छावथे घटा,
            ना चमकत हवे बिजली l
रात में घलो नइ दिखे जोगनी,
           ना उड़ावत दिखे तितली l
नाचत नइये  मयुर,
                ना गिरत नइये पानी ।
अइसने में कइसे,
                      चलहि जिंदगानी l
सावन ह बैसाख जेठ,
                        अइसन लागथे l
एसो के साल कुछु,
                     समझ नइ आवथे l
एसो के साल दुबर ल,
              दु असाड नजर आवथे l
आज ले कोरोना घलो,
              दुनिया ले नइ भगावथे l
ऐसो के साल कुछु,
                     समझ नइ आवथे l
अइसने रही तब,
                        छुट जही परान l
थोकिन तो दया करव,
                 *हे! मोर भगवान* l
          *
                             एन.आर .यादव ✍
                                 *नवनीत*



1/Post a Comment/Comments

टिप्पणी पोस्ट करें

नया पेज पुराने