कोरोना प्रकोप को देखते हुए जतमई मंदिर को एक माह तक बंद रखने का निर्णय लिया गया

 
गरियाबंद ।प्रसिध्द पर्यटन स्थल में शुमार प्राकृतिक सुंदरता से पूरा इलाका अपनी अलौकिक सुंदरता बिखेर रहा है।पूरे विश्व मे कोरोना महामारी का चपेट में है।इलाके के प्रमुख पर्यटन स्थल जतमई धाम में लॉक डाउन हटते ही भीड़ देखने को मिल रही है। जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया था।कोरोना के प्रकोप से जतमई इलाका भी अछूता नही है।प्रदेश के कोने कोने से पर्यटक यहाँ आते है।
 
इस आपदा को नियंत्रण में करने हेतु,कोरोना महामारी को लेकर माँ जतमई सेवा समिति द्वारा आपातकालीन बैठक रखी गई। कोरोना जैसे महामारी को लेकर मंदिर प्रशासन ने चर्चा कर आगामी एक माह तक मंदिर को बंद रखने का निर्णय लिया गया है।समिति द्वारा झरने पर नहाने पर पहले ही रोक लगा दिया गया है।
 
जतमई मंदिर समिति के अध्यक्ष शिवदयाल ध्रुव,संरक्षक सूरज मिश्रा,राघोबा महाड़िक,राजीव दीवान,सचिव नारायण साहू,सह सचिव भोजराम सिन्हा,कोषाध्यक्ष भूपेन्द्र साहू,धीरपाल साहू,रामचरण साहू,रघुराज ठाकुर,दुलारी बाई ध्रुव-सरपंच गायडबरी,कार्तिक साहू,गिरधर ध्रुव,बिसहत ध्रुव,भगोली ठाकुर, सहित सभी सदस्यों ने बताया कि कोरोना संक्रमण के चलते जतमई मंदिर एवम आसपास के क्षेत्र को पूर्णतः बंद रखा गया है। ज्ञात हो कि अभी पिछले रविवार को रायपुर सहित विभिन्न जिलों के सैलानी जतमई और घटारानी पहुंचे थे जिसमें से रायपुर के एक ही परिवार के 18 लोग कोरोना संक्रमित में पाए गए थे।
 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने