जंगल के कटिंग कार्य में लगे मजदूरों की मजदूरी नही मिलने से आक्रोश


डीएफओ कार्यालय घेराव की चेतावनी

 

पसीने की कमाई के 25 से 30 हजार की मजदूरी बाकी

आरती गुप्ता 
नगरी। धमतरी वनमंडल के अधीन बिरगुड़ी एवं सिंगपुर रेंज के विभिन्न कूपों में जंगल में गोला कटाई करने वाले मजदूरों की आज तक मजदूरी नहीं मिली है। जिसके चलते आक्रोशित मजदूर डीएफओ कार्यालय घेराव की मंशा बना रहे हैं। ग्राम देवगांव, घिकुड़िया एवं आसपास के ग्रामों के मजदूरों ने बताया कि लॉकडाउन के पूर्व और लॉकडाउन के दौरान उनके द्वारा वन अधिकारियों की बुलावे पर कूप कटाई की है, आज अपनी मजदूरी पाने के लिए उन्हें अधिकारियों के पास गिड़गिड़ाना पड़ रहा है। ग्राम देवगांव के चिंताराम यादव और हेमंत मरकाम ने बताया कि लॉकडाउन के पूर्व उनके गांव के करीब 20-25 मजदूर पारधी-छलकनी कूप में जंगल गोला कटिंग हेतु गए थे। एक एक मजदूर का कम से कम 25 से 30 हजार की मजदूरी बनती है। लेकिन हमें इस कोरोना महामारी के बीच, खेती किसानी के समय में अपने ही मजदुरी की राशि का मुंह ताकना पड़ रहा है। 
 
मजदूर चिंताराम और हेमंत मरकाम ने बताया कि उनके ग्राम देवगांव के लीलंबर, धनंजय, सुराज सिंह, पुरामेन्द्र, फूलचंद सालीक सहित 25 मजदूर एवं ग्राम घिकुडिया के चंद्रिका कमार व सुखराम कमार सहित के 15 से 16 मजदूर उत्तर सिंगपुर के अंतर्गत बम्हनी, पारधी, छलकनी कूप में कटिंग किए हैं। अधिकारी सिर्फ आश्वाशन दे रहे है आज मिलेगा कल मिलेगा के चक्कर में परिवार में भूखे मरने की स्थिति बन गई है, घर मे बहस छिड़ी हुई हैं। हम अपने पसीने की कमाई के लिए जूझ रहे हैं, आक्रोशित मजदूरों का कहना है शीघ्र मजदूरी नहीं मिली तो इसी हफ्ते डीएफओ कार्यालय का घेराव किया जाएगा।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने