नई पहल: तीज नहीं जा पाई महिला पुलिस अधिकारी,कर्मचारियों के लिए करू भात का आयोजन


धमतरी।  प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला तीज त्यौहार महिलाओं के लिए अपना विशेष महत्व रखता है। जिसमें महिलाएं अपने पति के दीर्घायु होने व उनके स्वस्थ रहने के लिए निर्जला व्रत रखकर पूजा अर्चना करती हैं। छत्तीसगढ़ की परंपरा अनुसार तीज पर्व के पूर्व रात्रि करू भात का सेवन किया जाता है।मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ भूपेश बघेल द्वारा विगत वर्ष तीज  त्यौहार के दिन शासकीय अवकाश घोषित किए जाने से कुछ महिला पुलिस अधिकारी-कर्मचारी अपने पुलिस कप्तान से अनुमति प्राप्त कर परंपरागत तरीके से मायके जाकर तीज त्यौहार मनाई थी।

  


     वर्तमान समय में वैश्विक महामारी कोविड-19 के संक्रमण काल में सुरक्षा के दृष्टिकोण से कई महिलाएं इस त्यौहार में अपने मायके नहीं जा पा रही हैं। प्रायः यह देखा गया जाता है कि पुलिस विभाग में सेवारत महिलाएं तीज त्यौहार के दिन भी अपनी ड्यूटी पर उपस्थित रहती हैं । संक्रमण के दौर में अपने मायके जाने से परहेज करने की स्थिति में पुलिस अधीक्षक  बी.पी. राजभानू ने इकाई प्रमुख होने के नाते अधीनस्थ महिला पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों के भावनाओं को ध्यान में रखते हुए तीज व्रत रखने वाली सभी महिला पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों के लिए करू भात का आयोजन कर उन्हें आमंत्रित करने का निर्देश दिया। 

 

जिस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे के  नेतृत्व में आयोजित करू भात कार्यक्रम में इकाई में पदस्थ उप पुलिस अधीक्षक अजाक  सारिका वैद्य, निरीक्षक सत्यकला रामटेके, उप निरीक्षक (अ)  लक्ष्मी ध्रुव, सूबेदार रेवती वर्मा, सहायक उपनिरीक्षक संतोषी नेताम, महिला प्रधान आरक्षक लता राजपूत, दिनेश्वरी नेताम के अलावा पुलिस नियंत्रण कक्ष, शक्ति टीम व अन्य स्थानों में कार्यरत महिला पुलिस कर्मचारी उपस्थित रहें जिन्होंने इस तरह के कार्यक्रम आयोजन हेतु पुलिस अधीक्षक व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को धन्यवाद दिया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने