"मोर मितान के हाँका पाठशाला" कोरोना काल में बच्चों के लिए नई शुरुवात



 धमतरी। कोविड-19 महामारी के विकट काल में जिला शिक्षा अधिकारी  रजनी नेलसन के संरक्षण,  डीआर गजेंद्र एवं  अथर्व शर्मा के मार्गदर्शन तथा संतोष हिरवानी सपंच, ज्ञानेश सिन्हा समन्वयक के सहयोग से ग्राम पंचायत पीपरछेड़ी में सामुदायिक सहभागिता, रेडक्रास वोलेंटीयर के सहयोग  से बच्चों में शिक्षा का अलख जगाने की अनूठी पहल की जा रही है। इस कार्यक्रम को मोर मितान के पाठशाला नाम दिया गया है ।


आज जब संपूर्ण शिक्षा व्यवस्था चरमरा गई है तब बच्चों को नियमित रूप से शिक्षा से जोड़े रखने के लिए गांव के कुछ नवयुवक प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक सरपंच ,पंच एवं शाला प्रबंधन समिति ने गांव के ही पंचायत भवन एवं सामाजिक भवनों में नियमित रूप से अध्यापन कार्य को जारी रखा । बच्चों को कोरोना से बचाव के सारे उपाय जैसे मास्क लगाना सैनिटाइजर एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अलग-अलग शिफ्ट में विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों के माध्यम से लगातार लाउडस्पीकर क्लास लिया जा रहा है ।आज की गतिविधि के रूप में पहली कक्षा में शिक्षिका बनीता नेताम  ने "आम की टोकरी पाठ "को अभिनय के माध्यम से प्रस्तुत किया, जिसमें मितान के रूप में टेमिन साहू विशेष सहयोगी रही ।

कक्षा दूसरी में मितान नीलम साहू एवं शिक्षिका देहुती किरण ने "आवाजों से दोस्ती" गतिविधि में छात्रा चांदनी से हाथी एवं शेर की आवाज पहचानने कहा जिसमें वह सफल रही।मितान अजय साहू एवं शिक्षक भूपेंद्र देव ने तीसरी में "मुसवा रहीथे जी" चौथी में श्रीचंद्रप्रकाश हिरवानी शिक्षक द्वारा "सागर में अबड़ पानी रहीथे "की व्याख्या किया ,शिक्षक तमेश साहू ने पांचवी में "मैं अमर शहीदों का चारण" को विभिन्न भावों से अभिव्यक्त किया इन संपूर्ण गतिविधियों को बच्चों  ने बहुत आनंदित होकर सुना । ग्राम पंचायत पिपरछेड़ी देमार के  संतोष हिरवानी सरपंच , मुकेश ध्रुव शाला प्रबंधन समिति अध्यक्ष ,  उमा शर्मा प्रधान पाठक ,अशोक साहू रोजगार सहायक , मनीराम साहू सचिव ,लालाराम सिन्हा ,ईश्वर हरदेल,  बिरजू बाई, रुपेश्वरी ,नारायणी देशमुख,  मीना साहू ने उपस्थित होकर सराहना की ।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने