जवानों के शहादत को सलाम,पुलिस स्मृति दिवस पर शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

 




धमतरी ।पुलिस स्मृति दिवस पर शहीद वीर जवानों की शहादत को नमन करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। पुलिस लाइन रूद्री में आयोजित  कार्यक्रम में 21 अक्टूबर को पुलिस शहीद दिवस पर एसपी  बीपी राजभानू ने सभी वीर जवानों की शहादत को याद कर शहीदों के नाम वाचन कर श्रद्धांजलि दी।सलामी शोक शस्त्र के बाद मौजूद जनप्रतिनिधि अधिकारी और शहीद के परिजनों ने श्रद्धा सुमन अर्पित की।


धमतरी  विधायक  रंजना डिपेंद्र साहू,जिला पंचायत अध्यक्ष  कांति सोनवानी, महापौर विजय देवांगन,कांग्रेस जिलाध्यक्ष शरद लोहाना, कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य,अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश,अन्य जनप्रतिनिधी,गणमान्य नागरिक एवं शहीदों के परिजनों सहित पुलिस अधिकारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर उप पुलिस अधीक्षक अरुण जोशी , सारिका वैद्य, थाना प्रभारी अर्जुनी रुद्री, भखारा,सिहावा,दुगली के साथ पुलिस अधिकारियों एवं शहीद परिवार के परिजनों द्वारा वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।रक्षित निरीक्षक  के.देवराजू द्वारा शहीद परेड का नेतृत्व किया गया।शहीद परेड एवं श्रद्धांजलि के बाद कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य एवं पुलिस एसपी बी.पी.राजभानू ने शहीद परिवारों की समस्याएं सुनकर तत्काल निराकरण हेतु निर्देश दिये गये।



आखिर क्यों मनाते है यह दिवस

हर साल 21 अक्तूबर को मनाया जाने वाला पुलिस स्मृति दिवस के पीछे भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव की शुरुआत की कहानी है। हालांकि इसे आजादी के बाद ड्यूटी पर जान देने वाले 34 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मियों की याद में मनाया जाता है। 21 अक्तूबर, 1959 को पूर्वी लद्दाख में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने कायरतापूर्ण हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के दस जवान शहीद हुए थे। देश के इतिहास में यह पहला मौका था जब सीमा पर सेना नहीं पुलिस के जवान शहीद हुए थे। जवानों के सम्मान में पुलिस स्मृति दिवस मनाने की शुरुआत हुई।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने