बरसों पुरानी परंपरा कायम,मंदर माई से निकली जंवारा यात्रा, श्रद्धालु हुए शामिल

 


भूपेंद्र साहू

धमतरी। क्वांर नवरात्र पर मराठापारा  वार्ड के मंदर माई मंदिर में तीन दिनों के लिए ज्योति कलश स्थापित की जाती है। सालों से इस परंपरा का निर्वहन किया जा रहा है। इस साल भी यहां तीन दिनों के लिए ज्योत कलश प्रज्वलित की गई। दशमी तिथि के दूसरे दिन यहां ज्योति कलश और जोत जंवारा का विसर्जन किया जाता है।


 कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस बार सादगीपूर्ण ढंग से  जंवारा का विसर्जन शीतला तालाब में किया गया। पहले बहुत ज्यादा लोग बाना लिया करते थे लेकिन इस बार  सीमित लोगों ने ही बाना लिया  जिसे देखने के लिए श्रद्धालु उमड़ पड़े। मराठा पारा के मंदिर माई में पंचमी तिथि को पर जोत जवारा और कलश प्रज्ज्वलित की जाती है। तीन दिन बाद जोत जवारा विसर्जन किया जाता है इस साल पुराना वायरस संक्रमण के चलते विसर्जन में कम संख्या में लोग शामिल हुए। मंदिर के पुजारी राज कुमार ध्रुव ने बताया कि वर्षों से इस परंपरा का निर्वहन किया जा रहा है ।इस साल मंदिर में 146 मनोकामना ज्योति प्रज्ज्वलित की गई, जिसका विसर्जन सोमवार को किया गया।


 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने