लक्षण को छुपाना नहीं, बताना है-कलेक्टर जय प्रकाश मौर्य


कोरोना के लिए ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में चलाया जाएगा आई.ई.सी. कैम्पेन



धमतरी 17 नवम्बर 2020/ कोविड 19 के संक्रमण से बचाव और बीमारी से मृत्यु का आंकड़ा कम करने के लिए जरूरी है कि लोगों में जागरूकता हो कि, सर्दी-खांसी और बुखार होने पर छुपाना नहीं, बताना है। कलेक्टर श्री जय प्रकाश मौर्य ने आज शाम पांच बजे कलेक्टोरेट सभाकक्ष में वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, स्वास्थ्य अमला, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत तथा सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों की बैठक लेकर इसके लिए आवश्यक कार्य करने तथा आई.ई.सी.कैम्पेन चलाने पर बल दिया है। 

 


उन्होंने ग्राम पंचायतों में सरपंच, पंच, रोजगार सहायक, पटवारी, ए.एन.एम., मितानिन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित कर संकल्प लेने पर जोर दिया है कि संबंधित पंचायत के ऐसे सभी व्यक्ति जिन्हें सर्दी-खांसी और बुखार है, उनका कोरोना टेस्ट किया जाएगा। कलेक्टर ने बैठक में मौजूद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.डी.के.तुर्रे को निर्देशित किया है कि ग्राम पंचायतों में कोरोना बीमारी के प्रति जागरूकता हेतु लिए जाने वाले संकल्प संबंधी पत्र प्रेषित करें। उन्होंने साथ ही हर पंचायत तथा नगरीय निकाय के वार्डवार नोडल अधिकारी बनाने के निर्देश दिए हैं, जो कि यह सुनिश्चित करेंगे कि सर्दी-खांसी और बुखार के शत्-प्रतिशत लोगों का कोरोना जांच किया जा रहा है। 



बैठक में कलेक्टर ने निर्देशित किया है कि 50 साल से अधिक उम्र के सर्दी-खांसी और बुखार के मरीजों का एंटीजन टेस्ट के साथ-साथ आरटीपीसीआर/ट्रू नाॅट टेस्ट भी अनिवार्य रूप से किया जाए। इसके अलावा सिम्टोमेटिक वनरेबल (अति संवेदनशील) तथा संक्रमित व्यक्ति के प्रायमरी काॅन्टेक्ट की अनिवार्य रूप से जांच सुनिश्चित की जाए। इसके साथ ही उन्होंने सख्त हिदायत दी है कि भीड-़भाड़ वाले इलाकों में मास्क अनिवार्य रूप से लगाया जाए। इसके अलावा पोस्ट कोविड काउंसिलिंग पर भी कलेक्टर ने बैठक में बल दिया है। उन्होंने इसके मद्देनजर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया है कि 50 साल से अधिक उम्र के ऐसे सभी कोरोना धनात्मक व्यक्तियों के डेटाबेस तैयार रख उनकी काउंसिलिंग करें, जिन्हें कोमाॅर्बिडिटी है। 


 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने