एक ही गांव में दो नाबालिग लड़कियों की होने वाली थी शादी, टीम ने पहुंचकर रुकवाई

 


धमतरी।देव उठानी पश्चात विवाह का दौर शुरू हो गया है। जिला बाल संरक्षण टीम द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है कि कहीं भी बाल विवाह ना हो पाए । इसी तारतम्य में आज  28 नवम्बर को धमतरी विकासखंड के एक ही गांव में  दो नाबालिक लड़की की शादी गुपचुप रूप से तय कर दी गई थी। जिसकी सूचना जिला बाल संरक्षण अधिकारी आनंद पाठक को फोन के माध्यम से मिली। 

 


जिला बाल अधिकारी  तत्काल  बाल संरक्षण एवं चाइल्ड लाइन टीम सहित लड़की के गांव में दबिश दी । तब जानकारी हुआ कि बालिका की सगाई हो चुकी थी,शादी का दिनांक तय होना बाकी था। परिजनों से बालिका का अंकसूची एवं आधार कार्ड  मांग करने पर जानकारी हुआ की दोनों बालिका की उम्र 18 वर्ष से कम है ।परिजनों को समझाइश दी गई कि बाल विवाह करना कानूनन अपराध है और जो भी उसमें सम्मिलित होगा उनको भी 2 साल की सजा और 1लाख जुर्माने का प्रावधान है ।तब परिजनों ने बालिका का विवाह बालिग होने तक स्थगित कर दिया ।एक बालिका की उम्र  17 वर्ष तथा दूसरे बालिका की उम्र 16 वर्ष अब 5 माह थी।

 


 दोनों बालिकाओं के परिजन द्वारा बालिक होने के पश्चात ही शादी किया जाएगा इस संबंध में उनके द्वारा वचन पत्र एवं घोषणा पत्र लिख कर दिया गया।इस प्रकार महिला बाल विकास विभाग के बाल संरक्षण एवं चाइल्डलाइन टीम के  प्रयास से दो बाल विवाह  होने से बचा लिया गया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने