दो भाइयों ने लॉकडाउन में तैयार की अनूठी वी राइड ई-बाइक

 


                        -आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत धर्मनगरी के युवाओं की अनूठी पहल

                       -देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों को करेगी आकर्षित, भ्रमण की मिलेगी सुविधा


प्रमेन्द्र अस्थाना

लखनऊ/मथुरा (उत्तर प्रदेश)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करने के लिए नगर के दो उद्यमी भाइयों ने लॉकडाउन के दौरान एक अनूठी ई-बाइक का आविष्कार किया है। जो देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने इस ई-बाइक को वी राइड का नाम दिया है। फिलहाल वे नो प्रॉफिट नो लॉस के आधार पर नगर में पर्यटकों को यह सुविधा उपलब्ध कराएंगे।


वी-राइड के अविष्कारक शुभम मित्तल ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान उनके जहन में आया कि पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से कुछ ऐसा वाहन तैयार किया जाना चाहिए जो सस्ता हो और आसानी से हर किसी को सुलभ हो सके। इस वी राइड पर पर्यटक को नाम मात्र ही खर्च करना होगा। इसमें न पेट्रोल-डीजल का प्रदूषण होगा और ही शोरगुल। इसके एक बार चार्ज कर 48 किमी चलाया जा सकता है।



सत्यम मित्तल ने इस वी राइड को आत्मनिर्भर भारत अभियान का एक हिस्सा बताया। कहा कि देश-विदेश से धर्मनगरी में भ्रमण के लिए आने वाले भक्तों एवं पर्यटकों के लिए यह सुविधा की दृष्टि से मील का पत्थर साबित होगी। बताया कि अभी तक वह 15 वी राइड ई बाइक तैयार कर चुके हैं।

कपिल बंसल एवं अश्विनी सिंह ने बताया कि फरवरी में यमुना किनारे लगने वाले कुंभ मेला में इको फ्रेंडली ई बाइक का श्रद्धालु व पर्यटक आनंद ले सकेंगे। इसे शहर की कुंज गलियों में भी आसानी से ले जाया जा सकेगा।

इस अवसर पर अमित कौशिक, डॉ. भुवन बंसल, पूर्णेन्दु गोस्वामी, गौरहरि मित्तल, रामदास, निताई बंसल, नंदनी मित्तल, प्रीति बंसल, अंकित सिंह, भावना चौधरी, पिंकी शर्मा आदि उपस्थित थे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने