निर्दोष आदिवासियों को तत्काल रिहा करें भूपेश सरकार : कमलेश झड़ी

 

सीपीआई जिला कमेटी की मुख्यमंत्री से मांग

कमलेश झड़ी


 बीजापुर। प्रदेश की कांग्रेस सरकार के दो साल पूरे होने पर  सीपीआई ने मुख्यमंत्री को उनके वादे याद दिला कर मांग करते हुए कहा कि बस्तर समेत प्रदेश की जेल में अकारण ही बन्द किये गए निर्दोष आदिवासियों को निःशर्त रिहा करे। बस्तर में पेसा कानून लागू करने समेत ऐसे कई वादों से सरकार मुकर गई है, जिससे बस्तर के लोग ठगे गये है।

 सीपीआई जिला सचिव कमलेश झड़ी ने भूपेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने यहाँ की जनता को बेवकूफ बनाने का काम किया है, जिसका खामियाजा आने-वाले दिनों में उसे भुगतान पड़ेगा। आगामी दिनों में सीपीआई आंदोलन के लिए बाध्य होगी, जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन की होगी।  कमलेश झडी ने पहले भी सरकार पर कई आरोप लगाए थे जिसमे तेंदुपत्ता संग्रहण से जुड़े आदिवासियों के पीड़ा को बतलाया था।  कहा तेंदूपत्ता ग्रामीण क्षेत्र में निवासरत लोगों के लिए अल्पकालिक रोजगार के साथ अर्थव्यवस्था का आधार है। तेंदूपत्ता को लेकर CPI की नीति स्पष्ट है। तेंदूपत्ता का सही मूल्य पत्ता तोड़ने वाले श्रमिक को दिलाने के लिए सीपीआई ने कई जंगी प्रदर्शन किए हैं. अब तक कई भ्रष्टाचार के मामले उजागर हुए हैं लेकिन कोई कार्रवाई देखने को नहीं मिली है।

सीपीआई जिला सचिव ने पहले भी मनरेगा में हो रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाये थे। अब देखना है कि सरकार कैसे इन मामलो में अपनी सफाई पेश करती है या फिर कैसे कार्यवाही करती है, क्यूंकि घोर नक्सल छेत्र और आदिवासी इलाके के कारण सत्ता की पकड़ योजनाओ के हिसाब से बस्तर में ढीली ही दिखाई देती है।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने