निःशुल्क होम्योपैथिक चिकित्सा शिविर में मरीजों ने लिया लाभ

 



इंदौर।दो दिवसीय  निःशुल्क होम्योपैथिक चिकित्सा शिविर का शुभारंभ मुख्य अतिथि अर्यमा सान्याल डायरेक्टर इंदौर एयरपोर्ट ने किया।होम्योपैथिक दवा तथा मास्क का वितरण डॉ संजय दीक्षित डीन एम जी एम मेडिकल कॉलेज इंदौर  द्वारा किया गया ।डॉ ए के द्विवेदी ने सभी मरीजों का परीक्षण किया तथा  होम्योपैथिक दवा प्रेस्क्राइब किया।

इंदौर, मध्य प्रदेश के  सुप्रसिद्ध  होम्योपैथिक चिकित्सक तथा आयुष मंत्रालय भारत सरकार में सलाहकार  बोर्ड के सदस्य डॉ ए के द्विवेदी ने कोविड के समय में पूरी तरह से कोविड नियमों का पालन करते हुए अपने जन्मदिन पर कोई पार्टी नहीं करते हुए पूरी तरह से समाज हित  में कार्य करने का स्वं निर्णय लिया 2 दिवसीय निःशुल्क होम्योपैथिक चिकित्सा   शिविर का आयोजन किया जिसमे लोगों को होम्योपैथिक दवा भी निःशुल्क दी गई।

मुख्य अतिथि अर्यमा सान्याल  ने अपने सम्बोधन में कहा कि लोगों की यह ग़लतफ़हमी है कि एलोपैथी दवा जल्दी और होम्योपैथी दवा धीमे असर करती है ।अपने अनुभव बताते हुए कहा कि जो सर्दी जुकाम एलोपैथी दवा से 7-8 दिन में ठीक नहीं होती है होम्योपैथी दवा से मात्र 2-3 दिन में ठीक हो जाती है और किसी भी प्रक्रार की कमजोरी या सुस्ती भी नहीं लगती जबकि एंटी एलर्जिक दवा खाने से सुस्ती और दिन भर भारीपन लगता है कफ सूख जाता है।

डॉ संजय दीक्षित डीन एम जी एम मेडिकल कॉलेज ने कोविड मरीजों को दी जा रही होम्योपैथिक दवा के बारे में विस्तृत जानकारी हासिल किए तथा मरीज से चर्चा भी किये जिनको  खांसी और कमजोरी में होम्योपैथिक इलाज से काफी जल्दी आराम मिला ।

दोनों अतिथियों ने वृक्षा रोपण भी किया  तथा कहा की अपने  जन्मदिन पर प्रकृति को हम पेड़ लगाकर अच्छा गिफ्ट दे सकते हैं।कार्यक्रम  की अध्यक्षता डॉ ए के द्विवेदी ने किया अतिथि स्वागत डॉ विवेक शर्मा तथा दीपक उपाध्याय ने किया।

सञ्चालन डॉ जीतेन्द्र पूरी व

आभार डॉ ऋषभ जैन ने व्यक्त किया।

होम्योपैथिक दवा राकेश यादव, जीतेन्द्र तथा विनय पंडित द्वारा मरीजों के लिए तैयार किये गए।पहले दिन केवल 30 मरीज ही लिए गए बाकि का पंजीयन कल के लिए कर दिया गया।

भीड़ नहीं इकट्ठा हो इस बात का पूरा ध्यान रखा गया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने