बौद्धिक विकास के साथ-साथ शारीरिक विकास भी जरुरी : प्रीतेश गांधी,युवाओं के आत्मबल और कौशल से ही देश का विकास संभव : डिपेन्द्र साहू

 


धमतरी।रविवार को एम.पी. इलेवन क्रिकेट क्लब के तत्वाधान में ग्राम मड़वापथरा में आयोजित चार दिवसीय टेनिस बॉल क्रिकेट प्रतियोगिता के समापन समारोह में मुख्य अतिथि  डिपेन्द्र साहू विधायक प्रतिनिधि थे।अध्यक्षता  प्रीतेश गांधी प्रदेश विशेष आमंत्रित सदस्य भाजपा छत्तीसगढ़ ने की। विशिष्ट अतिथि उमेश साहू सांसद प्रतिनिधि शामिल हुए।इस अवसर पर समिति के सदस्य, ग्रामवासी व बड़ी संख्या में दर्शक उपस्थित थे।अतिथियों ने विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत कर उन्हें बधाई दी साथ ही अन्य प्रतिभागियों को मनोबल भी बढ़ाया।


इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डिपेन्द्र साहू ने कहा कि जीवन में हार और जीत सिक्के के दो पहलु हैं। कभी आप जीतते हैं तो कभी हारना भी पड़ता है।इससे निराश होने की बजाय हमें और कड़ी मेहनत करते हुए अपने अंदर निहित कमियों को दूर करना चाहिए.।  खेल को खेल की भावना से खेलना चाहिए तथा खेलों से  शारारिक एवं मानसिक विकास होता है। खिलाड़ियों को हार से कभी निराश नही होना चाहिए बल्कि आगामी प्रतियोगिता की तैयारी में जुट जाना चाहिए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रीतेश गांधी ने कहा कि खेलकूद जीवन में अनेक उत्तम गुणों का विकास करता है।खेलों से शरीर चुस्त, फुर्तीला एवं बलिष्ठ होता है। उन्होंने कहा कि खेल में हार-जीत कोई मायने नहीं रखती है, बल्कि हारने वाले को भविष्य में जीतने की प्रेरणा मिलती है। खेलकूद के जरिये खिलाड़ियों में सामूहिक खेलकूद की भावना का विकास होता है। खेल प्रतियोगिता से आपस में भाईचारे की भावना प्रबल होती है वहीं दुसरी ओर खेल हमारे जीवन के लिए भी अति आवश्यक है। शिक्षा हमें ज्ञान देती है जिससे हमारे मस्तिष्क का विकास होता है तो वहीँ खेल से हमारा शरीर तंदुरुस्त एवं स्फूर्ति से भरा रहता है।खेल का हमारे जीवन में उतना ही महत्व है जितना शिक्षा का। आज हमारे देश के युवा खिलाड़ी अपनी खेल प्रतिभा से विश्व में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं। गांवों में खेल प्रतिभाओं की कमी नही है उन्हे खोजकर तरासने की जरूरत है। खेल में हार और जीत लगा रहता है इससे कभी निराश नहीं होना चाहिए बल्कि अपने विजन को मिशन बनाकर निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए तो सफलता भी आपके कदम चूमेगी।


इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष गोलू कुंजाम, उपाध्यक्ष महादेव कतलम, सचिव लक्ष्मीकांत, कप्तान प्रेम मंडावी, संरक्षक शिव नारायण व धनंजय नेताम, सदस्यगण कांता प्रसाद, कुलेश्वर, विकास,बल्लू, दौलत,कौशल, लखन, सहदेव, देवराज, मोटू, संजय, सुमित, माधव, नंदकिशोर, कैलाश, गुरमुख, रंजीत, गब्बर, श्याम, मुकेश, ब्रह्मदेव, दीपक, विजय, अक्कू, देवराज एवं ग्रामवासियों मौजूद थे।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने