5 लाख के विद्युत खंभों की चोरी मामले में तीन गिरफ्तार, मुख्य आरोपी फरार

 

धमतरी। कुरूद क्षेत्र में विद्युतीकरण के लिए ठेकेदार द्धारा लाये गए लोहे के विद्युत खंम्भों की चोरी कर ले जा रहे वाहन चालक सहित तीन लोगों को पुलिस ने गिरफतार कर रिमांड पर जेल भेज दिया है। मुख्य आरोपी पेटी ठेकेदार फरार है। चोरी गए विद्युत खंम्भों की कीमत 5 लाख बताई गई है। 

 पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार खमतराई आरंग निवासी ठेकेदार भूपेन्द्र साहू पिता बाबूलाल साहू ने विद्युत विभाग से कुरूद व क्षेत्र में विद्युतीकरण हेतु लोहे के विद्युत खंम्भे व ट्रांसफार्मर लगाने जनवरी 2020 से ठेके पर लिया है। जिसका कार्य कराने रायपुर के पेटी ठेकेदार दिनेश शर्मा को दिया था। लाखों के विद्युत पोल कुरूद के समीपस्थ ग्राम कन्हारपुरी के पास डम्प करके रखा गया था। कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन हो गया। इस दौरान पेटी ठेकेदार दिनेश शर्मा ने बगैर किसी को जानकारी दिये कन्हारपुरी के पास रखे 20 पोल को गायब कर दिया। जिसकी जानकारी लॉकडाउन खुलने के दो महीने बाद जब उस वक्त लगी जब भूपेन्द्र साहू मौके पर पहुंचे। उन्होंने देखा कि कार्य 20 प्रतिशत हुआ है। लेकिन अधिकांश खंम्भे गायब है। शंका होने पर अपने पेटी ठेकेदार से पूछताछ की। जिसने दूसरी जगह लगा देने तथा वापस करने की बात कही। परन्तु वापस नही किया। 

इसके बाद भूपेन्द्र साहू ने 29 जनवरी को कुरूद थाना पहुंचकर 5 लाख से अधिक कीमत की 20 पोल चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने धारा 379 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की। इसी बीच रविवार को बानगर में चोरी से छुपाकर रखे 2 खंम्भों को पिकअप क्रंमाक सीजी 19 बीएल 7584 में डालकर रविवार को पेटी ठेकेदार के दो कर्मचारी देवकुमार उर्फ खेलुराम ढीमर 40 वर्ष, भूषण पिता बीरझु सतनामी 22 वर्ष निवासी छाती और चालक राजू नेताम पिता मंघिया नेताम 40 वर्ष ग्राम कोदाभाठ कांकेर ले जा रहे थे। 

जिसे एएसआई पीएन ध्रुव ने घेराबंदी कर पकड़ा। तीनों को थाने लाकर पूछताछ की गई। पेटी ठेकेदार के कहने पर पोल को कांकेर के जंगलवार ट्रेंनिग कॉलेज में ले जाने की बात स्वीकारी। पुलिस ने उक्त धारा के अलावा विद्युत अधिनियम के तहत गिरफतार कर तीनों को न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। मुख्य आरोपी पेटी ठेकेदार दिनेश शर्मा फरार है। जिसकी तलाश की जा रही है।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने