करेली बड़ी में रेत घाट को बंद कराने की मांग,ग्रामीण बैठे अनिश्चितकालीन धरने पर

 


मौके पर पहुँचकर तहसीलदार ने किया मशीन को सील

मगरलोड।ग्राम करेली बड़ी के महानदी में चल रहे रेत घाट को बंद कराने के लिए गांव के लोगों ने शुक्रवार को बड़ी संख्या में कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया।अवैध उत्खनन व परिवहन समेत घाट बंद करने मांग की गई।इसके बाद शनिवार को सैकड़ों लोगों ने सत्यनारायण मंदिर के पास रेत परिवहन के विरोध में बैठ कर अनिश्चितकालीन आंदोलन शुरू कर दिया।

पंच यादराम निषाद ने कहा कि ठेकेदार नियम विरूद्ध मनमर्जी से रेत निकालकर और परिहवन कर रहे है।दायरे से अधिक रेत निकाली जा रहा है।मशीन से नदी को खोदा जा रहा है।भविष्य में गांव में रेत की किल्लत हो सकती है।युवकों समेत ग्रामीणों ने महानदी सरक्षण को लेकर बिगुल फूंक दिया गया है।बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने एकजुटता दिखा कर धरना स्थल में बैठ कर प्रदर्शन किया गया।ग्रामीणों ने बताया कि लगातार रेत उत्खनन और अवैध परिवहन हो रहा है।सड़क की हालत खराब हो रही है।मशीनों से रेत निकालने के कारण मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है।इस कारण आक्रोश बढ़ गया।रातभर मशीनों से खनन होने से रेत दिन ब दिन कम हो रहा है।ऐसे में भविष्य में ग्रामीणों को रेत नहीं मिल पाएगा।

महानदी के संरक्षण को लेकर ग्रामीणों ने एक अभियान सा छोड़ दिया है।ग्रामीणों ने पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर महत्वपूर्ण काम कर रहा है।ताकि नदी घाट को सुरक्षित रखा जा सके।लगातार रेत उत्खनन से पेयजल संकट की स्थिति बढ़ सकती है।भविष्य में निस्तारी के पानी की समस्या बढ़ सकती है।गांव के वरिष्ठ नागरिकों ने समर्थन कर रेत घाट बंद करने समर्थन किया गया।गांव के सरपंच,पंच ने भी समर्थन दिया।गांव के लोगों ने कहा कि जब तक रेत खदान बंद नहीं होगी।तब तक आंदोलन चलता रहेगा।

रेत घाट पहुँचकर तहसीलदार ने मशीन को किया सील.....

ग्रामीणों के अनिश्चितकालीन धरने के बाद प्रशासन ने तहसीलदार को मशीन पर कार्यवाही करने भेजा।अधिकारियों ने गांव वालों के  उपस्थिति में चैन मशीन को सील किया ।

धरना प्रदर्शन अब प्रतिदिन तीन- तीन वार्डों लोग शामिल होंगे..

करेली बड़ी में रेत खदान को बंद कराने की मांग को लेकर ग्रामीण अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन पर बैठे है। ग्रामीणों ने बताया कि जब तक मांग पूरी नहीं हो जाती तब तक रविवार से गांव के 17 वार्डों में से अब प्रतिदिन तीन- तीन वार्डों के लोग धरना प्रदर्शन पर  बैठेगें। 



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने