प्रदेश के वरिष्ठ होम्योपैथिक व आयुर्वेदिक चिकित्सकीय बोर्ड का शीघ्र होगा गठन

 



समाज सेवा व होम्योपैथी चिकित्सा क्षेत्र में डाॅ. ए.के. द्विवेदी की उपलब्धि को राज्य आयुष मन्त्री ने सराहा 


इन्दौर। इन्दौर प्रवास दौरान के ग्रेटर ब्रजेश्वरी पिपलियाहाना स्थित एडवांस्ड वेलनेस सेन्टर का निरीक्षण करने राज्य आयुष मन्त्री रामकिशोर कांवरे पहुँचे। वेलनेस सेन्टर से लगे प्राकृतिक चिकित्सा उद्यान में औषधीय गुणों से युक्त जामुन, अनार, तुलसी, थूजा, पपीता व अन्य फलदार पौधों का रोपण किया। कार्यक्रम में उपस्थित अन्य आयुष चिकित्सकों को सम्बोधित करते हुये आयुष चिकित्सा क्षेत्र में प्रदेश की आगामी योजनाओं के बारे में अवगत कराया। 



कोरोना काल में प्रदेश की जनता के लिये किये गये उत्कृष्ट कार्यों के लिये आयुष मेडिकल वेलफेयर फाउण्डेशन द्वारा राज्य आयुष मन्त्री श्री रामकिशोर कांवरे जी को आयुष रत्न से अलंकृत किया गया। कार्यक्रम में आयुष चिकित्सकों व बाहर से आये रोगियों को सम्बोधित करते हुये राज्य आयुष मन्त्री ने कहा कि, भोपाल के डायरेक्टोरेट या मन्त्रालय में बैठकर नहीं बल्कि प्रदेश के सभी जिला क्षेत्रों में जाकर देखना चाहते हैं कि आयुष के क्षेत्र में कौन कैसा कार्य कर रहा है। मन्त्री जी ने आगे कहा कि, आप जिस पद्धति के चिकित्सक हैं, उसी पैथी का उपयोग स्वयं और अपने घर के लोगों के लिये प्रयोग करें। ऐसा करने से आपके चिकित्सा प्रणाली का विकास अवश्य होगा। सलाह देते हुये उन्होंने कहा कि, जब से आयुष मन्त्री बना, तब से इस चिकित्सा पद्धति का महत्व इसके बारे में व्यापक जानकारी मिली हैं। उन्हें त्वचा रोग (एलर्जी) हो गया था, जिसके लिये उन्होंने होम्योपैथी चिकित्सा अपनाया। 


आयुष मन्त्री ने कहा कि, जब वे स्वयं होम्योपैथी, आयुर्वेद अपनायेंगे, तभी दूसरे लोग भी अपनायेंगे। होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक, यूनानी चिकित्सकों ने कोरोना काल में बहुत कार्य किया। उनके इस कार्य को हम ऐसे ही नहीं जाया जाने देंगे। होम्योपैथिक चिकित्सकों को भी यथोचित सम्मान दिलायेंगे। आपने कहा कि, मरीज की अंिन्तम अवस्था में भी इलाज करते हैं। मरीज को जब बड़े-बड़े अस्पताल के चिकित्सक बोलते हैं कि, घर ले जायें मरीज को और इनकी सेवा करें, तब वह मरीज होम्योपैथिक, आयुर्वेदिक व नेचुरोपैथी अपनाकर स्वस्थ रहता है। भविष्य में प्रदेश के आयुष वेलनेस सेन्टरों को और अधिक विकसित करने की बात कही। 

आपने कहा कि, डाॅ. ए.के. द्विवेदी का प्रोफाइल देखा और उन्हें लगा कि डाॅ. द्विवेदी जी जान से कार्य कर रहे हैं, इस लिये वे इस संस्थान का अवलोकन करने आये। आपने कहा कि, प्रदेश में होम्योपैथी, आयुर्वेद की शिक्षा को और अधिक बेहतर बनाया जायेगा। आपने कहा कि, आने वाले समय में आगामी पीढ़ी होम्योपैथी आयुर्वेदिक चिकित्सा को ही अपनायेगी। प्रदेश में होम्योपैथी तथा आयुष चिकित्सा पद्धतियों के लिये सबसे बेहतर कार्य करने के लिये डाॅ. ए.के. द्विवेदी की प्रदेश आयुष मन्त्री ने की खूब सराहना और अन्य आयुष चिकित्सकों को सलाह दी कि आप लोगों को भी डाॅ. द्विवेदी से सीख लेनी चाहिये। 

एडवांस्ड आयुष वेलनेस सेन्टर, होम्योपैथी एवं नेचुरोपैथी अस्पताल, ग्रेटर ब्रजेश्वरी, पिपलियाहाना, इन्दौर में ‘‘पैलिएटिव कैंसर केयर बाय होम्योपैथी’’ विषय पर कार्यशाला आयोजित की गई। जिसका शुभारम्भ आयुष मन्त्री श्री रामकिशोर कांवरे ने किया। संचालन डाॅ. भूपेन्द्र गौतम ने किया, अध्यक्षीय उद्बोधन डाॅ. ए.के. द्विवेदी ने किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री रामकिशोर कांवरे जी को शाल-श्रीफल भेंटकर उनका स्वागत किया। आयुष चिकित्सा पद्धति के विभिन्न संगठनों के सदस्य उपस्थित थे। जिन्होंने मन्त्री  से अपनी समस्या बयां की। मन्त्री ने समस्याओं के शीघ्र निराकरण का आश्वासन दिया। 

इस अवसर पर डाॅ. विवेक शर्मा, डाॅ. जितेन्द्र कुमार पुरी, दीपक उपाध्याय, विनय पाण्डेय, जितेन्द्र जायसवाल सहित अन्य वरिष्ठ चिकित्सक उपस्थित थे। 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने