एसडीएम कार्यालय में तोड़फोड़ के मामले में वन ग्राम सघर्ष समिति के करीब 500 लोगों के खिलाफ नगरी थाना में अपराध दर्ज

 


धमतरी/नगरी।अनुविभगीय अधिकारी (राजस्व) कार्यालय नगरी मे उच्च श्रेणी लिपिक के पद पर पदस्थ हेमलाल  मरकाम ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि अध्यक्ष वन ग्राम सघर्ष समिति जिला धमतरी छग द्वारा 18 मार्च को इस कार्यालय मे ज्ञापन दिया गया था।जिसके परिपेक्ष्य मे दिनांक 22 मार्च को रैली एवं सत्याग्रह शांति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने हेतू तहसीलदार नगरी एवं नायब तहसीलदार नगरी को कार्यपालिक दण्डाधिकारी नियुक्त कर अनुविभागीय अधिकारी पुलिस को सूचना दी गई थी।  22 मार्च को रैली पश्चात् कार्यालय परिसर के मुख्य गेट पर ज्ञापन लिया जाकर पावती दिया जा चुका था ।उपरांत प्रतिनिधि मंडल के सदस्य लगभग 400-500 की संख्या मे एक राय होकर बलात प्रवेश कर झूमा-झटकी करते हुये अनाप-सनाप  नारा लगाते हुये इस कार्यालय के मेन गेट लोहे के शटर को तोडते हुये प्रवेश किया तथा शासकीय कार्य मे बाधा डाले एवं लोहे शटर को तोडकर शासकीय सम्पति का नुकसान किये है।


एसडीएम नगरी की ओर से लिपिक हेमलाल मरकाम की रिपोर्ट पर 400 से 500 लोगों के खिलाफ धारा 147 149 186 और संपत्ति नुकसानी अधिनियम निवारण 1984 के 3(1 )का मामला दर्ज किया गया है।


ज्ञात हो कि करीब 111 वनग्रामों की भूमि का बंदोबस्त दुरुस्त कर भुईयां पोर्टल में आनलाइन अपलोड करने,पांचवी अनुसूचित क्षेत्र नगरी विकासखंड में पेसा कानून को पूर्णतः लागू किया जाए,वन संसाधन का सामुदायिक अधिकार पारंपरिक ग्राम सभा को अधिकार दिया जाए,वनग्रामों के किसानों को प्रधानमंत्री कृषक सम्मान निधि दी जाए जैसे 9 सूत्रीय मांगो को लेकर वन ग्राम संघर्ष समिति ज्ञापन सौपने एसडीएम कार्यालय गए थे।इस दौरान एसडीएम जितेन्द्र कुर्रे पर दुव्र्यहार करने का आरोप लगाते हुए कार्यालय के बाहर हंगामा करते हुए तोड़फोड़ किया।फिलहाल एसडीएम के शिकायत के बाद नगरी पुलिस मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई में जुट गई है।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने