कोरोना का असर: टूटी 8 सौ साल पुरानी परंपरा, 6 दिन पहले ही विदा हुए देवी-देवता

 

 दंतेश्वरी मंदिर में 11 दिन तक चलता है फागुन मड़ाई


दंतेवाड़ा। कोरोना के असर से इस बार दंतेश्वरी मंदिर का 8 सौ साल पुरानी परंपरा टूट गई। 11 दिन तक चलने वाली फागुन मड़ाई में इस बार 6 दिन में ही देवी-देवताओं की विदाई कर दी गई।


दंतेश्वरी मंदिर में विगत 8 सौ वर्षों से  फागुन मड़ई का आयोजन किया जाता रहा है। 11 दिनों तक चलने वाले इस मड़ई उत्सव में छत्तीसगढ़ के अलावा आस पास के राज्यों से 800 से ज्यादा देवी-देवता पहुंचते थे। लेकिन कोरोना के बढ़ते असर को देखते हुए इस बार मड़ाई में पहुँचे देवी देवताओं को 6 दिन पहले ही विदा कर दिया गया। पहले इनकी विदाई एक अप्रैल को की जानी थी। यह निर्णय प्रधान पुजारी की ओर से लिया गया है। 


6 दिन पहले विदाई होने की वजह से 8 सौ साल पुरानी परंपरा इस बार टूट गई। बताया गया है इस बार 450  देवी-देवता ही पहुंचे थे। जिनको सम्मानपूर्वक विदा किया गया। रस्मों के लिए सिर्फ मंदिर के पुजारी, सहायक और सेवादार ही उपस्थित होंगे। शेष लोगों के आने पर रोक लगा दी गई है। इसके अलावा रस्मों को देखने के लिए आम जन और ग्रामीणों को अनुमति नहीं दी गई है। 


बताया गया है मड़ई में आने वाले ग्रामीणों की जांच भी कराई जा रही है। हर दिन मंदिर परिसर में आने वाले लोगों की जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम मौजूद है। खास बात यह है कि एंटीजन या थर्मल स्कैनिंग नहीं, बल्कि सभी की RTPCR जांच हो रही है।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने