समय से पूर्व हुआ विधानसभा सत्र का समापन,महंत ने कहा- गतिरोध और आक्रोश को भूल जाये, जनता का हित हमारा पहला और अंतिम लक्ष्य

 


रायपुर। हंगामे और शोर शराबे के बीच आख़िरकार बज़ट सत्र का समापन समय से पूर्व हो गया। सत्र अवसान पर चर्चा करते हुए विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने सभी सदस्यों से निवेदन करते हुए कहा कि आरोप-प्रत्यारोप, गतिरोध और आक्रोश के गुजरे पलों को भूल कर सदन को इन परिस्थितियों से बचाने का प्रयास करें साथ ही इस बात का पर विशेष रूप से विचार करें कि हमें प्रदेश की जनता ने अपना प्रतिनिधि बना कर यहां भेजा है, उनका हित और कल्याण ही हमारा प्रथम और अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।



दो मंत्रियों को कोरोना संक्रमित पाए जाने और जारी गतिरोध से कल ही यह संकेत मिले मिल गए थे की सत्र का अवसान आज मंगलवार को हो जायेगा। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने सदन में चर्चा के दौरान कहा कि आपने सदन संचालन का दायित्व मुझे सौंपा है, मैं भी आप ही की तरह इस सदन का एक सदस्य ही हूँ, मेरी भी भावनाएं हैं, मेरे भी विचार हैं। मेरा आग्रह है कि सदन की सर्वोच्चता के लिए आसंदी के प्रति सम्मान और विश्वास का भाव बना रहना अत्यंत आवश्यक है। व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा, प्रतिष्ठा और द्वेष से सदन को मुक्त रख कर ही हम संसदीय लोकतंत्र की सार्थकता को सिद्ध कर सकते हैं।


 विस अध्यक्ष महंत ने कहा कि हमें अपने जीवन में सदैव आशावादी और सकारात्मक दृष्टिकोण को बनाये रखते हए बेहतर कल की अपेक्षा से आगे बढ़ना चाहिए। कुछ परिस्थितियों की वजह से भले ही इस सत्र में विषम स्थिति निर्मित हुई परन्तु यह भी सत्य है कि हमारी संसदीय संस्कारों की जड़ें इतनी मजबूत हैं कि हम इन परिस्थितियों से भी आगे निकलकर संसदीय मल्यों को किन्हीं भी परिस्थितियों में भविष्य में प्रभावित नहीं होने देने का संकल्प लें।


सत्र समापन के अवसर पर उन्होंने सदन के नेता, नेता प्रतिपक्ष, उपाध्यक्ष, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (J) के नेता धर्मजीत सिंह और बहुजन समाज पार्टी विधायक दल के नेता केशव चंद्रा, सभापति तालिका के सदस्य सहित समस्त सदस्यों के प्रति इस सत्र के सुव्यवस्थित संचालन में सहभागिता और सहयोग के लिये धन्यवाद दिया। साथ ही सदन की कार्यवाही से अवगत कराने के लिए प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रति भी आभार व्यक्त किया। इसके अलावा उन्होंने राज्य शासन के मुख्य सचिव सहित समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ सुरक्षा व्यवस्था में संलग्न अधिकारियों व कर्मचारियों को भी बधाई दी, जिन्होंने सुदृढ़ सुरक्षा व्यवस्था इस सत्र के दौरान कायम रखी। उन्होंने विधानसभा के प्रमुख सचिव सहित सचिवालय के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों की भी प्रशंसा की, जिन्होंने अपने दायित्वों का निर्वहन पूर्ण कुशलता एवं निष्ठा के साथ किया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने