राजिम मेला ड्यूटी में तैनात जवानों को दिए गये ठहरने की जगह में पर्याप्त सुविधा नही

 


गर्मी से जवान परेशान 


 पवन निषाद

मगरलोड। राजिम माघी पुन्नी मेला छत्तीसगढ़ का प्रयाग कहा जाता है। 15 दिनों तक लगने वाले मेला में रोज हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं घूमने आते है। राजिम मेला में अलग -अलग जिलों के जवानों की ड्यूटी सुरक्षा लगी है। मगर जवानों को ठहरने के लिए दिए गई जगह में पर्याप्त मात्रा में लाईट,पंखा की सुविधा नही  है।


 लोमश ऋषि के आश्रम के बगल में बने अटल विश्रामलय व श्री संत निवास में जवानों को ठहरने के लिए जगह दिया गया है।अटल विश्राम व श्री संत निवास में पर्याप्त मात्रा में लाईट नहीं है। पंखा लगा ही नहीं है।जवान गर्मी से परेशान है। मच्छरदानी के सहारे रात गुजराते है।जवानों के लिए शौचालय की सुविधा भी नहीं है।जवान खुले में शौच करने के लिए मजबूर है।सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार मेला ड्यूटी में तैनात कई अधिकारी व कर्मचारी ने ठहरने की जगह में पर्याप्त मात्रा में सुविधा नहीं होने के कारण स्वयं के व्यय से लॉज में रूके हुए है।मेला में लाखों रूपये खर्च किए जाते है।मगर मेला ड्यूटी में तैनात जवानों को सुविधा ठीक से नही मिल रही है।

इस सम्बंध में धमतरी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने व्यवस्था को दिखवाने की बात कही।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने