हाथियों के दल ने फसल की चौपट,किसानों ने की मुआवजे की मांग

 


नगरी।इन दिनों गजराज का जमावड़ा नगरी ब्लॉक के जबर्रा, मटियाबाहरा व भैसामुडा के जंगलों में है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक ये दल दिनभर जंगलों में रहने के बाद रात में रहवासी इलाके की ओर कुच करते है और फसलों को नुकसान पहुचा रहे है।

 हाथियों को भगाने के कई जतन ग्रामीण कर रहे है स्वयं खर्च कर फटाके भी फोड़ रहे है पर सारी मेहनत बेकार हो गई है इससे भी हाथी भाग नही रहे।

कृषक नेहरुलाल ध्रुव एवं राधेश्याम ध्रुव से मिली जानकारी के मुताबिक इस क्षेत्र में दो माह से हाथियों ने नाक में दम कर रखा है 15 अप्रेल को रात लगभग 9 बजे मटीयाबाहरा के रायसिंह पिता कहेकरी लाल गोड के लगभग सवा एकड़ खेत मे लगे धान के फसल को चौपट कर डाला 12 हाथियों का दल कक्ष क्रमांक 342 भैसामुडा से होते हुए कक्ष क्रमांक 341ए मटीयाबाहरा आबादी क्षेत्र में पहुचे थे। 


कुछ माह पूर्व भी रायसिंह गोड द्वारा लगाए गए मटर के फसल को पूरा चौपट कर दिया था जिसका मुआवजा विभाग द्वारा नही दिया गया। अब भी धान की फसल को नुकसान करने पर भी विभाग के कर्मचारियों द्वारा कोई कार्रवाही नियत समयावधि पर नही किया गया है जबकि इस क्षेत्र में दो माह से गजराज दल का उत्पात बना हुआ है। क्षेत्र के कृषकों ने शासन-प्रशासन से क्षतिग्रस्त फसलों का आकलन कर मुआवजा देने की मांग की है।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने